नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश में सरकार बनने के महज एक साल के भीतर तेजी से भगवाकरण की कई घटनाएं प्रकाश में आई हैं. पहले सीएम हाउस, फिर सरकारी बसें भगवा रंग में रंग दी गईं. और तो और मुस्लिम धर्मावलंबियों के लिए बने हज हाउस को भी इसी रंग का कर दिया गया. लेकिन तत्काल राजनीतिक टीका-टिप्पणियां शुरू हो गईं, तो हज हाउस का रंग रातों-रात बदल दिया गया. यहां तक तो फिर भी ठीक था, सीएम योगी आदित्यनाथ के दौरे से पहले एक टॉयलेट तक को भगवा रंग में रंगने की घटना सामने आई. जाहिर है, ये मुद्दे विपक्षी दलों की आलोचना के लिए पर्याप्त हैं, लेकिन यूपी सरकार इन आलोचनाओं या विपक्षी दलों की टिप्पणियों से घबराई नहीं. उल्टा अब तो टोल प्लाजा तक को भगवा रंग में रंगने की कवायद शुरू कर दी गई है. ताजा मामला मुजफ्फरनगर-सहारनपुर हाईवे पर स्थित फोर लेन टोल प्‍लाजा का है, जिसे भगवा रंग में रंग दिया गया है.

Toll-Plaza-1

 

चर्चा का विषय बना भगवा टोल प्लाजा
मुजफ्फरनगर-सहारनपुर हाईवे पर स्थित इस टोल प्‍लाजा को पूरी तरह भगवा रंग में रंगकर तैयार किया गया है. इसके कारण यह चर्चा का विषय बना हुआ है. सोशल मीडिया पर इसे यूपी सरकार की भगवा कार्यशैली का उदाहरण बताया जा रहा है. वहीं कुछ टि्वटर यूजर भगवा टोल प्लाजा को यूपी में विपक्षी दलों के लिए मुद्दा बता रहे हैं. हालांकि अभी यह टोल प्‍लाजा ट्रायल के लिए खोला गया है. इसे अभी प्रदेश सरकार की ओर से थ्री नोटिफिकेशन का इंतजार है. सरकार की ओर से अनु‍मति मिलने के बाद इसे जनता के लिए खोल दिया जाएगा. लेकिन शुरू होने से पहले ही मीडिया में इस टोल प्लाजा को लेकर टीका-टिप्पणी शुरू हो गई है. वहीं मामले में टोल प्‍लाजा के सीनियर मैनेजर इतेंद्र सिंह का भी कहना है कि टोल प्‍लाजा को सरकार की ओर से थ्री नोटिफिकेशन का इंतजार है. परमिशन मिलने के पर तुरंत इसे शुरू कर दिया जाएगा. वहीं भगवा रंग के मामले पर उनका कहना है कि यह आर्किटेक्‍ट का डिजाइन है. इसमें कुछ अलग से नहीं किया गया है. टोल प्‍लाजा का रंग भी इसकी डिजाइन का ही हिस्‍सा है.

Toll-Plaza-2

 

सीएम ऑफिस भी भगवा
इससे पहले लखनऊ स्थित मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के ऑफिस को भी भगवा रंग में रंगा गया था. इस मामले में देश काफी राजनीति हुई थी. वहीं उत्‍तर प्रदेश परिवहन निगम की रोडवेज बसों को भी भगवा रंग में रंगा गया था. वहीं इसी महीने दो जून को मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के हरदोई दौरे के पहले वहां के कार्यक्रम स्‍थल के टॉयलेट के टाइल्‍स को भी भगवा रंग में रंगा गया था. लेकिन बाद में मामला बढ़ने के बाद इन टाइल्‍स को हटा दिया गया था. हज हाउस को भी भगवा रंग में रंगा गया था लेकिन बाद में रातोंरात उसका रंग बदल दिया गया था.