लखनऊ: यूपी सरकार ने अवैध शराब और जहरीली शराब के प्रयोग, परिवहन और सेवन पर रोक लगाने के लिए शख्‍त कदम उठाया है. अब अवैध शराब और जहरीली शराब को रखने, तस्‍करी करने और बेचने वालों के खिलाफ रासुका और गैंगस्‍टर एक्‍ट के तहत कार्रवाई होगी. उत्तर प्रदेश सरकार ने अवैध रूप से निर्मित मदिरा और विषाक्त मदिरा के संचय, परिवहन और बिक्री से लोगों के मारे जाने के प्रकरणों पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून और गैंगस्टर एक्ट के तहत कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं. Also Read - हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट लगवाने की आज आखिरी मौका, नहीं लगवाई तो देना होगा भारी जुर्माना

सरकारी प्रवक्ता ने बुधवार को बताया कि प्रमुख सचिव, आबकारी संजय आर. भूसरेड्डी ने सभी मंडलायुक्तों, जिलाधिकारियों और आबकारी आयुक्त को निर्देश देते हुए कहा कि मदिरा से हुई जनहानि के मामलों में संयुक्त प्रान्त आबकारी अधिनियम, 1910 (यथा संशोधित) की धारा-60(क) के अतिरिक्त आईपीसी की धारा-272, 273, 304 और राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई सुनिश्चित की जाए. Also Read - UP: युवती ने 2 साल पहले जिस 'अशोक राजपूत' से की थी शादी, वह निकला अफजल खान

सरकारी प्रवक्ता ने कहा कि विषाक्त मदिरा के सेवन से होने वाली जनहानि, अपंगता और गंभीर शारीरिक क्षति के प्रकरणों में प्रभावी रूप से अभियोग पंजीकृत किए जाए. Also Read - Corona Spike in UP: यूपी में COVID19 के 15,353 नए केस आए इलाहाबाद HC में कल से ऑनलाइन सुनवाई

प्रमुख सचिव आबकारी के अनुसार यदि दोषियों द्वारा अवैध मदिरा के निर्माण या तस्करी के कार्य की पुनरावृत्ति की जाती है तो उनके विरूद्ध गैंगस्टर एक्ट तथा राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के अन्तर्गत अभियोग पंजीकृत करने पर भी विचार करने के निर्देश दिए गए हैं.