लखनऊ: यूपी सरकार ने अवैध शराब और जहरीली शराब के प्रयोग, परिवहन और सेवन पर रोक लगाने के लिए शख्‍त कदम उठाया है. अब अवैध शराब और जहरीली शराब को रखने, तस्‍करी करने और बेचने वालों के खिलाफ रासुका और गैंगस्‍टर एक्‍ट के तहत कार्रवाई होगी. उत्तर प्रदेश सरकार ने अवैध रूप से निर्मित मदिरा और विषाक्त मदिरा के संचय, परिवहन और बिक्री से लोगों के मारे जाने के प्रकरणों पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून और गैंगस्टर एक्ट के तहत कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं.

सरकारी प्रवक्ता ने बुधवार को बताया कि प्रमुख सचिव, आबकारी संजय आर. भूसरेड्डी ने सभी मंडलायुक्तों, जिलाधिकारियों और आबकारी आयुक्त को निर्देश देते हुए कहा कि मदिरा से हुई जनहानि के मामलों में संयुक्त प्रान्त आबकारी अधिनियम, 1910 (यथा संशोधित) की धारा-60(क) के अतिरिक्त आईपीसी की धारा-272, 273, 304 और राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई सुनिश्चित की जाए.

सरकारी प्रवक्ता ने कहा कि विषाक्त मदिरा के सेवन से होने वाली जनहानि, अपंगता और गंभीर शारीरिक क्षति के प्रकरणों में प्रभावी रूप से अभियोग पंजीकृत किए जाए.

प्रमुख सचिव आबकारी के अनुसार यदि दोषियों द्वारा अवैध मदिरा के निर्माण या तस्करी के कार्य की पुनरावृत्ति की जाती है तो उनके विरूद्ध गैंगस्टर एक्ट तथा राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के अन्तर्गत अभियोग पंजीकृत करने पर भी विचार करने के निर्देश दिए गए हैं.