लखनऊ: औरैया जिले के बिधुना में दो साधुओं की हत्या कर दी गयी जबकि एक अन्य साधू गंभीर रूप से घायल हो गया. इस घटना के बाद इलाके में तनाव व्याप्त है. इलाके में जबर्दस्त तनाव के बाद वरिष्ठ पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी घटनास्थल पर पहुंच गए है. अपर पुलिस महानिदेशक (कानपुर रेंज) अविनाश चंद्रा ने बताया कि साधुओं पर धारदार हथियार से हमला किया गया है क्योंकि उनके शरीर पर कई जगह जख्म मिले है.

अपर पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार सक्सेना ने फोन पर बताया कि बिधूना पुलिस स्टेशन के कुदरकोट इलाके के भयानक नाथ मंदिर में आज तड़के करीब तीन बजे मंदिर के तीन साधुओं पर अज्ञात लोगों ने हमला कर दिया. पुलिस ने स्थानीय लोगों के हवाले से बताया कि ऐसा संदेह है कि इन साधुओं पर हमला इसलिये हुआ क्योंकि वे कथित गौकशी का विरोध करते थे. बिधुना के पुलिस क्षेत्राधिकारी भाष्कर वर्मा ने बताया कि साधुओं को पहले चारपाई से बांधा गया. बाद में उनकी हत्या कर दी गई.

मॉब लिंचिंग के खिलाफ कानून बनाने की प्रक्रिया शुरू, पीट-पीटकर हत्या को दंडात्मक अपराध बनाने की तैयारी

मारे गए साधुओं में लज्जाराम और हल्केराम है, जबकि रामशरण बुरी तरह से घायल है. उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है. इन तीनों साधुओं की उम्र 50 से 60 साल के बीच है. स्थानीय लोगों में इस हत्याकांड को लेकर काफी गुस्सा है. पुलिस के अनुसार तनाव को देखते हुए बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है. वरिष्ठ पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी मौके पर नजर रखे हुए हैं.