लखनऊ। उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी के नए अध्यक्ष की तलाश पूरी हो चुकी है. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार महेंद्र नाथ पांडेय को यूपी बीजेपी का नया अध्यक्ष बनना तय है. इसे यूपी के सवर्णों को साधने की कवायद माना जा रहा है. महेंद्र नाथ पांडेय चंदौली से बीजेपी सांसद हैं और वर्तमान में मानव संसाधन विकास मंत्रालय के राज्यमंत्री का प्रभार संभाल रहे हैं. राजनीतिक विश्लेषकों के मुताबिक महेंद्र नाथ पांडेय का दावा ब्राह्मण बिरादरी के कारण मजबूत था.Also Read - लखीमपुर खीरी पहुंचे राकेश टिकैत, MoS को बर्खास्त और उनके बेटे की गिरफ्तारी की मांग

Keshav Prasad Maurya says this is the result of 56 inch chest that we won the war without war | यह 56 इंच के सीने का परिणाम है कि भारत ने बिना लड़े चीन से ‘युद्ध’ जीत लिया: केशव प्रसाद मौर्य

Keshav Prasad Maurya says this is the result of 56 inch chest that we won the war without war | यह 56 इंच के सीने का परिणाम है कि भारत ने बिना लड़े चीन से ‘युद्ध’ जीत लिया: केशव प्रसाद मौर्य

केंद्रीय मंत्रिमंडल में कलराज मिश्र और महेंद्र नाथ पांडेय ही यूपी में ब्राह्मण चेहरा हैं. बीजेपी ने ब्राह्मणों को रिझाने के लिए ही उन्हें अध्यक्ष चुना है. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के जरिए दलितों को खुश किया गया, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जरिए पिछड़ों को, योगी आदित्यनाथ के जरिए ठाकुर भी संतुष्ट थे. ऐसे में ब्राह्मणों को रिझाने लिए यह दांव चला गया है. Also Read - Mahant Narendra Giri Death Case: सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा-अपराधी कोई भी हो, बख्शा नहीं जाएगा

Also Read - केशव प्रसाद मौर्य का अखिलेश यादव पर निशाना, 'रोजा-इफ्तार पार्टी करने वाले अब मंदिर-मंदिर घूम रहे हैं'

महेंद्र नाथ की राह में पूर्वांचल का रिश्ता ही बड़ा रोड़ा था. इसका कारण यह है कि यूपी के सीएम और डिप्टी सीएम के साथ प्रधानमंत्री भी पूर्वांचल का ही प्रतिनिधित्व करते हैं. ऐसे में सुगबुगाहट थी कि पश्चिमी यूपी से किसी को अध्यक्ष ब नाया जा सकता है लेकिन अंततः बीजेपी अध्यक्ष भी पुर्वांचल का ही बना.

महेंद्र नाथ पांडेयः जीवन परिचय

महेंद्र नाथ पांडेय 15 अक्टूबर 1957 को गाजीपुर में पैदा हुए. उन्होंने हिंदी से एमए और पीएचडी किया हुआ है. बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी से पत्रकारिता में परास्नातक भी किया हुआ है. मई 2014 में चंदौली से सांसद चुने गए. 5 जुलाई 2016 को मोदी कैबिनेट में शामिल हुए. उन्हें मानव संसाधन विकास मंत्रालय में राज्यमंत्री बनाया गया. उनकी रुचि पढ़ने और कृषि में है.