लखनऊ: केंद्रीय श्रम मंत्री संतोष गंगवार ने कहा है कि उत्तर भारत में नौकरी देने के लिए योग्य युवाओं की कमी है. विपक्ष ने गंगवार के इस बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है. बसपा प्रमुख मायावती ने ट्वीट किया, ”देश में छाई आर्थिक मंदी के बीच केंद्रीय मंत्रियों के अलग-अलग हास्यास्पद बयानों के बाद अब देश और खासकर उत्तर भारतीयों की बेरोजगारी दूर करने के बजाय यह कहना कि रोजगार की कमी नहीं, बल्कि योग्यता की कमी है, अति शर्मनाक है.

कड़ी चेतावनी फिर भी 82 पूर्व सांसदों ने खाली नहीं किए बंगले, अब कटेंगे बिजली-पानी के कनेक्‍शन

वहीं, बयान के बाद विपक्ष के हमले पर केंद्रीय मंत्री ने कहा, मैंने जो कहा था उसका अलग संदर्भ था कि कौशल की कमी थी और सरकार ने कौशल मंत्रालय खोला है ताकि बच्चों को नौकरी की आवश्यकता के अनुसार प्रशिक्षित किया जा सके. गंगवार ने कहा कि नौकरियों की कमी नहीं है. उत्तर भारत में भर्ती करने वाले लोगों का कहना है कि विशेष नौकरी के लिए लोगों में आवश्यक कौशल की कमी है: ‘

यूपी: जेठ ने किया रेप, महिला ने आवाज उठाई तो पति ने दिया ट्रिपल तलाक

गंगवार ने शनिवार को बरेली में मीडियाकर्मियों से बातचीत में कहा, देश में रोजगार की कमी नहीं है, लेकिन उत्तर भारत में जो रिक्रूटमेंट करने आते हैं, इस बात का सवाल करते हैं कि जिस पद के लिए हम (कर्मचारी) रख रहे हैं उसकी क्वालिटी का व्यक्ति हमें कम मिलता है.

मंत्री ने कहा, आजकल अखबारों में रोजगार की बात आ रही है. हम इसी मंत्रालय को देखने का काम करते हैं और रोज ही इसी का मंथन करने का काम करते है. बात हमारे समझ में आ गयी है. रोजगार दफ्तर के अलावा भी हमारा मंत्रालय इसको मॉनिटर कर रहा है.

रोड एक्‍सीडेंट के बाद अस्‍पताल पहुंची महिला के साथ हुए रेप का खुलासा, पड़ोसी की ज्‍यादती से हुई थी प्रेग्‍नेंट

विपक्ष ने गंगवार को उनके इस बयान के लिए आड़े हाथों लिया. बसपा प्रमुख मायावती ने ट्वीट किया, देश में छाई आर्थिक मंदी के बीच केंद्रीय मंत्रियों के अलग-अलग हास्यास्पद बयानों के बाद अब देश और खासकर उत्तर भारतीयों की बेरोजगारी दूर करने के बजाय यह कहना कि रोजगार की कमी नहीं, बल्कि योग्यता की कमी है, अति शर्मनाक है. इसके लिए देश से माफी मांगनी चाहिए.

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी केंद्रीय श्रम मंत्री के इस बयान का कड़ा विरोध किया. उन्होंने ट्वीट किया ”मंत्री जी, पांच साल से ज्यादा वक्त से आपकी सरकार है. नौकरियां पैदा नहीं हुईं. जो नौकरियां थीं वो सरकार द्वारा लाई आर्थिक मंदी के चलते छिन रही हैं. नौजवान रास्ता देख रहे हैं कि सरकार कुछ अच्छा करे.” उन्होंने कहा आप उत्तर भारतीयों का अपमान करके बच निकलना चाहते हैं. ये नहीं चलेगा.

दुनिया में हर साल तीन लाख मासूम आते हैं कैंसर की चपेट में, भारत की स्‍थ‍ित‍ि बेहद गंभीर

गंगवार ने उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और समाजवादी पार्टी के नेता आजम खां पर निशाना साधते हुए कहा कि कुछ लोग डरे हुए हैं, लेकिन किसी को भी नहीं बख्शा जाएगा.

आजम खां के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि वह रामपुर की जनता को बताएंगे कि उन्होंने किस तरह के व्यक्ति को चुनकर संसद में भेजा है. यह जनता के लिए भी दुर्भाग्य की बात है.

उनके इस बयान पर समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश ने कड़ी आपत्ति जताई है. उन्होंने कहा कि उनके बयान जख्मों पर नमक छिड़कने वाले हैं. सपा प्रमुख ने कहा कि मंत्री का बयान युवाओं के प्रति असंवेदनशील और क्रूर है.

कांग्रेस के नेता प्रमोद तिवारी ने भी मोदी सरकार के मंत्री से कहा है कि वह अपने इस बयान पर माफी मांगें.

उन्होंने कहा, “एक तरफ लोग अपनी नौकरियां गवां रहे हैं और दूसरी तरफ नई नौकरियां पैदा नहीं हो रही हैं. देश के युवा परेशान हैं, इस मुद्दे पर ध्यान देने के बजाय मंत्री युवाओं को दोष दे रहे हैं कि वे योग्य नहीं हैं. मंत्री का यह बयान दुर्भाग्यपूर्ण है.”