Unnao Rape Case: उन्नाव रेप कांड का मुख्य आरोपी कुलदीप सिंह सेंगर हमेशा से राजनीतिक रूप से बेहद ताकतवर रहा है. 52 वर्षीय सेंगर का राजनीतिक करियर उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के एक गांव से करीब 3 दशक पहले शुरू हुआ था. युवा अवस्था में ही उसने ग्राम प्रमुख का चुनाव जीतकर राजनीति की सीढ़ियां चढ़नी शुरू की. 2002 में वह पहली बार विधायक बना. उसके बाद से वह लगातार चुनाव जीतते आ रहा है.

इलाके में अपने राजनीतिक रसूख के कारण वह प्रदेश की तीनों प्रमुख पार्टियों बसपा, सपा और भाजपा का चहेता बना रहा. चार बार के विधायक सेंगर (Rape accused Kuldeep Singh Sengar) का जन्म तो फतेहपुर जिले में हुआ था लेकिन वह जल्द ही अपनी मां के गांव उन्नाव के माखी में शिफ्ट कर गया. उसके पिता मुलायम सिंह फतेहपुर जिले के थे. जब उसका परिवार उसकी मां के गांव में शिफ्ट हुआ तो वह बहुत छोटा था. उसके दो अन्य भाइयों अतुल सेंगर और मनोज सिंह सेंगर का जन्म उन्नाव में ही हुआ.

दरअसल, कुलदीप सेंगर (Kuldeep Singh Sengar) के नाना बाबू सिंह 37 सालों तक माखी गांव के प्रधान रहे. उसने उनसे ही राजनीति का क,ख,ग सीखा. इसके बाद वह 1988 में उनकी जगह ग्राम प्रधान चुना गया. वह 7 सालों तक ग्राम प्रधान रहा. इसके बाद 1995 में उसके ग्राम प्रधान की सीट महिलाओं के लिए आरक्षित हो गई तो वहां से उसने अपनी मौसी को चुनाव मैदान में उतारा लेकिन वह हार गईं. इसके बाद 2000 में उसने अपनी मां को ग्राम प्रधान का चुनाव लड़वाया और वह जीत गईं. इसके बाद वह 2005 में भी प्रधान का चुनाव जीत गईं.

उन्नाव दुष्कर्म मामलाः सुप्रीम कोर्ट ने CBI से मांगी जानकारी, केस की सुनवाई बाहर कराने पर विचार

कुलदीप सेंगर (Kuldeep Singh Sengar) 2002 में पहली बार बसपा के टिकट पर उन्नाव सदर से विधानसभा का चुनाव जीतकर राज्य की राजनीति में प्रवेश किया. लेकिन मायावती की बसपा में वह फिट नहीं बैठ पाया और उसे 2007 में पार्टी से निकाल दिया गया. इसके बाद उसने 2007 में ही समाजवादी पार्टी की साइकिल की सवारी कर ली. वह 2007 में दोबारा विधायक निर्वाचित हुआ था. 2012 में वह सपा के टिकट पर उन्नाव के ही भगवंत नगर सीट से फिर विधायक बना.

इसके बाद सेंगर ने 2017 के यूपी विधानसभा चुनाव से पहले हवा का रुख भांपते हुए भाजपा का दामन थाम लिया. उसने बंगारमऊ सीट से चुनाव लड़ा और वहां से जीत हासिल की. उन्नाव के स्थानीय लोग बताते हैं कि सेंगर के परिवार के वहां के स्थानीय निकाय में बोलबाला है. 2015 में उसके भाई की पत्नी अर्चना सिंह माखी गांव की प्रधान चुनी गईं, जबकि सेंगर (Kuldeep Singh Sengar) की पत्नी संगीता सिंह उन्नाव जिला पंचायत की प्रमुख हैं.