लखनऊ: महिलाओं और बच्चियों के प्रति अपराधों पर प्रभावी रोक के लिए उत्तर प्रदेश पुलिस ने महिला हेल्पलाइन-1090, एंटी रोमियो दस्ता और यूपी-100 सेवाओं को एक साथ जोड़ने का फैसला किया है. Also Read - UP: युवती ने 2 साल पहले जिस 'अशोक राजपूत' से की थी शादी, वह निकला अफजल खान

Also Read - Corona Spike in UP: यूपी में COVID19 के 15,353 नए केस आए इलाहाबाद HC में कल से ऑनलाइन सुनवाई

प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओम प्रकाश सिंह ने बताया कि हम महिलाओं के खिलाफ अपराध पर लगाम को पहली प्राथमिकता दे रहे हैं. प्रदेश में पहले से ही वूमेन हेल्पलाइन (1090), एंटी रोमियो दस्ता और यूपी-100 सेवाएं मौजूद हैं, जहां महिलाएं अपनी शिकायत कर सकती हैं. अब पीड़ितों को तुरन्त मदद मुहैया कराने के लिये हम इन तीनों सेवाओं को एक-दूसरे से जोड़ रहे हैं. ऐसा करने की वजह के बारे में उन्होंने बताया कि अब जो भी पीड़ित अपनी शिकायत दर्ज कराना चाहेगा, वह इन तीनों सेवाओं में से किसी पर भी फोन कर सकता है और उसे तुरन्त मदद पहुंचायी जाएगी. तीनों सेवाओं को जोड़ने से उनके बीच बेहतर तालमेल स्थापित होगा, जिससे पीड़ितों को कम समय में सहायता मिल सकेगी. Also Read - UP Zila Panchayat Chunav 2021: बीजेपी ने कुलदीप सिंह सेंगर की पत्‍नी संगीता सेंगर का टिकट किया कैंसिल

UP में खिलाडि़यों के लिए GOOD NEWS: गाजीपुर में बनेगा हॉकी का एस्ट्रो टर्फ, चंदौली में स्टेडियम

रेप या अपहरण के दस मामलों में से आठ में परिचितों का हाथ

सिंह ने बताया कि राज्य पुलिस महिलाओं और लड़कियों की सुरक्षा के लिये प्रतिबद्ध है और वह यह सुनिश्चित करेगी कि पाक्सो कानून से जुड़े मामलों की सुनवाई फास्ट ट्रैक अदालतों में हो. पुलिस ऐसे मामलों की फास्ट ट्रैक अदालतों में सुनवाई कराएगी, जिनमें आरोप पत्र दाखिल हो चुका है. राज्य पुलिस के आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, इस साल एक जनवरी से 31 मार्च के बीच महिलाओं और लड़कियों के प्रति अपराध के 11 हजार 249 मुकदमे दर्ज हुए. इनमें से बलात्कार के 899, दहेज सम्बन्धी 502, यौन उत्पीड़न के 2892, अपहरण के 3573 और अत्याचार के 3135 मामले हैं. पुलिस के मुताबिक, महिलाओं के प्रति अपराध की प्रकृति का अध्ययन करने पर पता लगा है कि बलात्कार या अपहरण के 10 में से आठ मामलों में परिचित लोगों या रिश्तेदारों का हाथ होता है. (इनपुट एजेंसी)