मुजफ्फरनगर: यूपी (UP) के मुजफ्फरनगर ((Muzaffar Nagar)) जिले में एक सनसनीखेज मामला सामने आया है, जिसमें प्रैक्‍ट‍िकल एग्‍जाम (Practical Exam) के बहाने 17 स्‍कूली छात्राओं को किसी दूसरे स्‍कूल में ले जाकर रेप की कोशिश की बात शुरुआती खबरों में कही गई है. हालांकि पुलिस के मताबिक, जांच में जांच के दौरान यह पता चला कि दो लड़कियों का यौन उत्पीड़न ( school Girls molestation) हुआ है. वहीं, 15 अन्य लड़कियों ने किसी भी तरह के उत्पीड़न से इनकार किया है. पुलिस ने बताया कि आरोपियों ने नाबालिगों को नशे की दवा मिला पानी पिलाकर कथित तौर पर दुष्कर्म की कोशिश कीAlso Read - UP Assembly Election 2022: भाजपा विधायक महेश त्रिवेदी के बिगड़े बोल-लाठी-चप्पल से मारना, बस गोली मत मारना, Video Viral

न्‍यूज एजेंसी पीटीआई/ भाषा के मुताबिक, पुलिस ने यह जानकारी दी है कि मुजफ्फरनगर जिले के पुरकाजी इलाके (Purkaji area of ​​Muzaffarnagar district) में प्रायोगिक परीक्षा के बहाने 2 लड़कियों को किसी अन्य विद्यालय में ले जाकर उनसे कथित तौर पर दुष्कर्म की कोशिश के मामले में एक विद्यालय के प्रबंधक को गिरफ्तार किया गया है और एक अन्य को पकड़ने के प्रयास जारी हैं. Also Read - सड़क किनारे मोनालिसा के पति संग रोमांस करती नज़र आईं पाखी हेगड़े, 'मझधार' में ढूंढ रही हैं किनारा

Also Read - दिल्‍ली में फिलहाल नहीं खुलेंगे स्‍कूल और कॉलेज, ऑनलाइन जारी रहेंगी कक्षाएं

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक यादव ने बताया कि आरोपियों ने लड़कियों को इस वारदात के बारे में किसी को भी नहीं बताने की धमकी दी थी. परिवार के अनुसार, जब वे स्थानीय पुलिस के पास गए तो उन्होंने कोई कार्रवाई नहीं की, जिसके बाद उन्होंने विधायक से संपर्क किया.

पुलिस अधीक्षक (शहर) अर्पित विजयवर्गीय ने मंगलवार बताया कि योगेश चौहान नाम के आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है और एक अन्य फरार आरोपी अर्जुन को पकड़ने के लिए पांच टीमों का गठन किया गया है. उन्होंने बताया कि एक पीड़िता को चिकित्सा जांच के बाद बयान दर्ज कराने के लिए मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया जाएगा.

सिटी एसपी अर्पित विजयवर्गीय ने बताया कि जांच के दौरान यह पता चला कि दोनों लड़कियों का यौन उत्पीड़न हुआ है. वहीं, 15 अन्य लड़कियों ने किसी भी तरह के उत्पीड़न से इनकार किया है. जिला पुलिस प्रमुख अभिषेक यादव ने बताया कि यह वारदात उस समय हुई जब आरोपी प्रायोगिक परीक्षा के लिए 15 अन्य लड़कियों के साथ इन दोनों को किसी और विद्यालय में ले गया था, उन्हें रात भर वहीं पर रुकना पड़ा.

स्थानीय विधायक बीजेपी के प्रमोद उटवाल के हस्तक्षेप के बाद एक पीड़िता के परिवार द्वारा की गई शिकायत के आधार पर आरोपियों पर मामला दर्ज कर लिया गया. इससे पहले पुरकाजी थाने के प्रभारी वीके सिंह को ड्यूटी में लापरवाही बरतने को लेकर पुलिस लाइन भेज दिया गया था.

शिकायत में कहा गया कि दोनों आरोपियों ने नाबालिगों को नशे की दवा मिला पानी पिलाकर कथित तौर पर दुष्कर्म की कोशिश की. एएसपी ने बताया कि आईपीसी की संबंधित धाराओं और यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण (POCSO) एक्‍ट के तहत केस दर्ज कर लिया गया.