बांदा: उत्तर प्रदेश में बांदा जिले के बिसंड़ा थाना क्षेत्र के तेंदुरा गांव में गुरुवार सुबह अगड़ी जाति के एक समूह ने एक दलित परिवार के घर पर हमला बोल दिया. इस हमले में दलित परिवार की एक बुजुर्ग महिला सहित चार महिलाएं घायल हुई हैं. Also Read - CM योगी ने दूसरे राज्‍यों से की अपील, यूपी के लोगों के खाने-रहने की व्‍यवस्‍था करें, हम खर्च देंगे

वाराणसी में ‘मंदिर बचाओ आंदोलन’ कर रहे स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती सहित 20 शिष्‍यों पर मुकदमा Also Read - COVID-19: लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर पुलिस ने बनाया मुर्गा, सामान सहित रेंगने की मिली सजा

बिसंड़ा थाना क्षेत्र की पुलिस चैकी ओरन के प्रभारी उपनिरीक्षक आरपी. वर्मा ने कहा कि अगड़ी जाति के एक समूह ने दलित परिवार में यह हमला सुबह करीब साढ़े छह बजे उस समय किया, जब बुजुर्ग दलित महिला शिवकलिया (58) अपने घर के पिछवाड़े गोबर के उपले उठाने गई थी. अगड़ी जाति के संतराम सिंह, उसका बेटा अमित सिंह, लालू सिंह और दो महिलाएं सावित्री व सपना ने उपले उठाने से दलित महिला को रोक दिया. जब वह नहीं मानी, तब इस समूह के आधा दर्जन लोगों ने एक राय होकर उस पर हमला बोल दिया. उसे बचाने पहुंची गुड्डन (32), रोशनी (16) और सुनीता (29) को भी घर में घुस कर मारा-पीटा गया है. Also Read - Coronavirus: नागपुर में रेस्तरां, बार, वाइन शॉप और पान की दुकानें तक बंद, देश की बढ़ी चुनौती

आईएसआई एजेंट गिरफ्तार, निजी सहायक बन कर रहा था सेना के बड़े अधिकारी की जासूसी

पीड़ित परिवार की सूचना पर पहुंची डायल 100 की पुलिस
उन्होंने कहा कि पीड़ित परिवार की सूचना पर डायल 100 की पुलिस मौके पर पहुंच गई है और मामले में कार्यवाही की जा रही है और घायल महिलाओं को अस्पताल भेजा जा रहा है. पीड़ित परिवार के मुखिया संतोष ने कहा कि हमले के समय घर में सिर्फ महिलाएं थीं. वह खुद जरूरी काम से इलाहाबाद में है. हमलावर समूह उसके परिवार का घर छीनना चाहते हैं. उच्च वर्ग की बस्ती में सिर्फ उसका घर बचा है, जिसे छीनने की कोशिश के चलते यह छठा हमला है. घटना की सूचना एसपी, थानाध्यक्ष सहित कई पुलिस अधिकारियों को जरिए फोन दे दी गई है. (इनपुट एजेंसी)