कुशीनगर: जनपद के पडरौना शहर से महज 3 किलोमीटर दूर खिरकिया में जर्जर हालत में संचालित हो रहे पडरौना के कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय के औचक निरीक्षण में दर्जन भर   बालिकाएं आवासीय विद्यालय से अनुपस्थित पाई गईं. निरीक्षण पर पहुंचे एसडीएम ने जब पूछ-ताछ की तो पता चला कि 12 अनुपस्थित छात्राओं में से पांच ने तो अवकाश का प्रार्थनापत्र दिया हुआ है जबकि शेष सात छात्राओं के बारे में कोई लिखित सूचना नहीं है. वो कहां गई हैं ? कब से नहीं हैं ? इस बारे में छात्रावास की वार्डेन कुछ भी नहीं बता सकीं. Also Read - यूपी के कुशीनगर में बेकाबू भीड़ ने पुलिस के सामने ही हत्या के आरोपी को पीट-पीटकर मार डाला

Also Read - कुशीनगर जिले में 12 साल की लड़की से 6 लोगों पर गैंगरेप का आरोप

बीटेक छात्र चाइनीज डिवाइस की मदद से ATM से उड़ाते थे पैसे, पुलिस ने ऐसे किया खुलासा Also Read - एयरफोर्स का फाइटर जगुआर विमान क्रैश, पायलट ने पैराशूट से लगाई छलांग

जर्जर हैं हालात

कस्तूरबा आवासीय विद्यालय की ख़राब स्थिति के बारे में सूचना मिलने पर शुक्रवार को औचक निरीक्षण को पहुंचे एसडीएम और उनकी टीम को विद्यालय में काफी अनियमितताएं मिलीं. भवन की स्थिति भी काफी जर्जर थी. एसडीएम ने वार्डेन को जरूरी दस्तावेजों के साथ अपने कार्यालय में तलब किया है. एसडीएम सदर गुलाबचंद्र के पहुंचते ही कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय में अफरातफरी मच गई. भवन की छत जर्जर हाल में मिली. बताया गया कि बारिश में छत टपकती है. बालिकाओं के सोने की भी समुचित व्यवस्था नहीं थी. सफाई की व्यवस्था भी काफी खराब रही. एसडीएम ने बालिकाओं की उपस्थिति के बारे में पूछा तो मालूम हुआ कि 88 बालिकाएं यहां रहती हैं. उनमें 12 बालिकाएं गायब थीं.

गोंडा में सीएम योगी आदित्यनाथ के पहुंचने से पहले कार्यक्रम स्‍थल पर विस्‍फोट, दो लोग जख्मी

जवाब-तलब !

एसडीएम ने जब इस अनुपस्थित बारे में पूछा तो वार्डेन संगीता सिंह ने बताया कि बालिकाएं अवकाश पर हैं. लेकिन वह सिर्फ पांच बालिकाओं की ओर से दिए गए अवकाश प्रार्थनापत्र को ही प्रस्तुत कर पाईं. शेष 7 के बारे में वो कुछ न बता सकीं. एसडीएम ने बताया कि 12 बालिकाएं कस्तूरबा आवासीय विद्यालय में उस समय नहीं थीं. उनमें पांच बालिकाएं कक्षा छह की हैं तथा 7 बालिकाएं सातवीं कक्षा की हैं. पांच बालिकाओं की तरफ से छुट्टी का प्रार्थनापत्र दिया गया था. परिसर में चारों ओर गंदगी व्याप्त थी. उन्होंने बताया कि वार्डेन से स्पष्टीकरण मांगा गया है तथा उन्हें दस्तावेजों के साथ फौरन कार्यालय बुलाया गया है. इसकी रिपोर्ट डीएम को भेज दी गई है. लापता छात्राओं के घर पर भी सूचना भेजी गई है, उनका पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है कि वो अपने घर ही गई हैं या फिर वो कहां हैं. एसडीएम का कहना है कि इस मामले में कड़ी कार्रवाई की जाएगी. डीएम को रिपोर्ट भेजी जा चुकी है.

फिल्म ‘अता पता लापता’ बनाने के लिए अभिनेता राजपाल यादव ने लिया कर्ज, न चुकाने पर कोर्ट ने भेजा जेल