नई दिल्‍ली: अभी तक तो पुरुषों के द्वारा महिलाओं और लड़कियों पर एसिड हमले के मामले अक्‍सर देखने में आते रहे हैं, लेकिन उत्‍तर प्रदेश में ठीक इसके उलटा हुआ है. यूपी के उन्‍नाव जिले के भवानी गंज के गोहाना मऊ में एक 20 साल की युवती ने 24 साल के युवक पर तेजात से हमला कर दिया. सोमवार रात को युवती ने युवक पर तब हमला किया, जब डेयरी चलाने वाला रोहित यादव डेयरी में सफाई कर रहा था. Also Read - UP: 50 लाख रुपए पाने के लिए पति ने डॉक्टर से करवाया अपनी टीचर पत्‍नी का मर्डर, फ्रीजर में मिली डेडबॉडी

गांववालों का कहना है कि युवक और युवती के बीच प्रेम प्रसंग था. पुलिस के अनुसार दोनों एक दूसरे को जानते थे, पड़ोसी थे और दोनों में आपस में बातचीत होती रहती थी. Also Read - Unnao Case: FSL Report में खुलासा, लड़कियों को दिए गए पानी में मिलाया गया था Herbicide

महिला ने युवक पर छिपकर हमला किया. घायल युवक को प्राथमिक इलाज के बाद लखनऊ के अस्‍पताल के लिए भेजा गया है. बताया जा रहा है कि युवती ने यह हमला एकतरफा प्रेम के चलते किया है. घटना के बाद पुलिस ने आरोपी लड़की से पूछताछ कर रही है. हालांकि, पीड़ित पक्ष ने शिकायत दर्ज नहीं कराई है. Also Read - Abhyudaya Yojana: UP की योगी सरकार 10 लाख युवाओं को देगी फ्री में टैबलेट, कैसे मिलेगा, जानें यहां पूरी डिटेल

उन्‍नाव के एएसपी ने कहा, भवानी गंज इलाके में कल एक लड़की ने लड़के पर एसिड फेंक दिया. हमें पता चला है कि कई महीनों से वे संपर्क में थे और वे पड़ोसी थे. लड़के को अस्‍पताल भेजा गया है और लड़की से पूछताछ हो रही है. जैसे ही हमें शिकायत मिलेगी, कार्रवाई शुरू कर दी जाएगी.

पुलिस अधीक्षक विक्रांत वीर ने बताया कि डेयरी के ठीक सामने रहने वाली ताइबा द्वारा रोहित पर पीछे से संचारक द्रव्य डाला गया है. रोहित और ताइबा आपस में परिचित हैं और पिछले कई महीने से एक दूसरे से बात करते रहते बताए जा रहे हैं.

एसपी ने बताया कि सुबह 112 पर सूचना मिली कि एक लड़के पर एक युवती ने तेजाब डाल दिया है. सूचना पर स्‍थानीय प्रभारी निरीक्षक मौके पर पहुंचे, क्षेत्राधिकारी ने भी घटनास्थल का मुआयना किया है. जांच में पता चला कि रोहित यादव भवानीगंज में अपनी दूध डेयरी चलाते है.

वीर ने बताया कि घायल को उपचार के लखनऊ के एक निजी अस्पताल ले जाया गया है. वहीं आरोपी युवती को पुलिस अभिरक्षा में लेकर पूछताछ की जा रही है. शांति व्यवस्था को दृष्टिगत रखते हुए पुलिस पिकेट तैनात कर दी गई है. उन्‍होंने बताया कि तहरीर प्राप्त होते ही अभियोग पंजीक्रत कर कार्रवाई की जाएगी.

बता दें कि जनवरी में राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NRCB) की जारी की गई नवीनतम रिपोर्ट के मुताबिक, 2018 के सबसे अधिक एसिड अटैक के 50 मामले पश्चिम बंगाल में दर्ज किए गए थे. इसके बाद दूसरे नंबर पर उत्‍तर प्रदेश में ऐसे 40 मामले सामने आए थे.  (इनपुट: एजेंसी)