लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ मुकदमा लड़ रहे 64 वर्षीय परवेज परवाज को गोरखपुर पुलिस ने बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार किया है. फिलहाल पुलिस ने परवेज को जेल भेज दिया गया है.

गोरखपुर के एसपी सिटी विनय सिंह ने बताया कि परवेज परवाज और एक अन्य व्यक्ति महमूद उर्फ जुमैन के खिलाफ बीती चार जून को एक महिला ने राजघाट थाने में गैंगरेप का मुकदमा दर्ज कराया था. इस मामले में परवेज परवाज (64) नामक व्यक्ति को गिरफ्तार कर बुधवार को जेल भेज दिया गया. पीड़िता के मुताबिक, जुम्मन तांत्रिक है. मामला दर्ज कराने वाली महिला का आरोप है कि परवेज और महमूद ने इलाज कराने के बहाने उससे गैंगरेप किया था. मेडिकल की जांच में बलात्कार की पुष्टि हुई है.

2007 गोरखपुर दंगा: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट ने जारी किया नोटिस

परवेज ने योगी सहित अन्‍य पर 2007 में कराई थी एफआईआर
एसपी (सिटी) विनय सिंह ने बताया कि परवेज़ को नक्खास स्थित उसके घर से गिरफ्तार किया गया. उसके साथी जुम्मन की तलाश जारी है. बता दें कि सामाजिक कार्यकर्ता परवेज परवाज वही व्यक्ति है जिसने 27 जनवरी 2007 को गोरखपुर के कोतवाली थाने में योगी आदित्यनाथ समेत कई अन्य लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई थी. इसमें योगी पर दो समुदायों के बीच साम्प्रदायिक तनाव फैलाने का आरोप लगाया गया था. इसको लेकर उसने सेशन कोर्ट और इलाहाबाद हाईकोर्ट में याचिका खारिज होने के बाद परवेज़ ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया था.

सुप्रीम कोर्ट ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ जारी किया था नोटिस
सुप्रीम कोर्ट ने बीते अगस्‍त महीने में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को 2007 गोरखपुर दंगों को बढ़ावा देने में उनकी कथित भूमिका के लिए नोटिस जारी किया था. इसमें चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की बेंच ने उत्तर प्रदेश सरकार को नोटिस का जवाब देने के लिए 4 हफ्ते का समय दिया था. बता दें कि यह याचिका समाजसेवी परवेज परवाज ने दायर की थी. हाल ही में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने गोरखपुर में 2007 में हुए दंगों में योगी आदित्यनाथ की भूमिका को लेकर दायर की गई याचिका खारिज कर दी थी.