उन्नाव: राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले होंगे, लेकिन सभी को लोकसभा चुनाव और उसके नतीजों का इंतज़ार होगा. कर्नाटक में सियासी उठापटक ने लोकसभा चुनावों में विपक्ष को एक साथ आने को प्रेरित किया है. 2017 में यूपी का विधानसभा चुनाव कांग्रेस के साथ लड़ने वाली समाजवादी पार्टी के मुखिया ने ये साफ़ कर दिया है कि उनकी पार्टी विपक्षी दल से साथ मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ेगी. इसके साह ही उन्होंने यह भी कहा कि विपक्षी दल मिलकर चुनाव मैदान में उतरेंगे और एक सर्वमान्य नेता इसके मुखिया होंगे. अखिलेश ने इशारा किया कि अगले पीएम ‘नेता जी’ यानी मुलायम सिंह यादव हो सकते हैं. 2019 चुनाव को लेकर अखिलेश का इस तरह का बयान पहली बार आया है. Also Read - शिया धर्मगुरू मौलाना कल्बे सादिक का निधन, बेटे ने दी जानकारी, सीएम योगी आदित्यनाथ ने जताया दुख

Also Read - UP कैबिनेट ने Ayodhya Airport का नया नाम मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम एयरपोर्ट करने के प्रस्‍ताव को पास किया

बुंदेलखंड: आग लगाकर जान देने वाले किसानों के घर पहुंचे अखिलेश, कहा- गरीबों को धोखा दे रही BJP सरकार Also Read - पीएम मोदी ने मुलायम सिंह यादव को किया फ़ोन, कहा- आप देश के सबसे...

कर्नाटक में बनी जनता के हितों की सरकार

रविवार (20 मई) उन्नाव पहुंचे में अखिलेश ने कहा कि अब तक जिला पंचायत और क्षेत्र पंचायत सदस्यों को बिकते सुना था, लेकिन कर्नाटक में विधायकों को खरीदने की पूरी कोशिश की गई, लेकिन सफल नहीं हो सके. उन्होंने कहा कि ‘सुप्रीम कोर्ट ने वहां लोकतंत्र को कलंकित होने से बचा लिया और वहां जनता के हितों की सरकार बनी’.

वाराणसी हादसा: अखिलेश का एक और ट्वीट, कहा- ‘ये ऐक्सिडेंट है या भ्रष्टाचार का परिणाम, जवाब दे सरकार’

बीजेपी झूठों की पार्टी, किसान आत्महत्या करने पर मजबूर

इस दौरान उन्होंने प्रदेश की बीजेपी सरकार पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि बीजेपी झूठों की पार्टी है. सरकार क्या कर रही है. इस सरकार में किसान आत्महत्या करने को मजबूर है, वहीं बच्चों को कुत्ते नोच रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘प्रदेश में योगी सरकार को एक साल से ज्यादा हो गया है, लेकिन अब तक कोई काम नहीं किया. योगी सरकार हर मोर्चे पर विफल है.’

कर्नाटक में कांग्रेस का प्रचार करने से अखिलेश का इंकार

सपा नेता संलिप्त थे तो सरकार क्या कर रही थी

जहरीली शराब कांड में समाजवादी पार्टी के नेताओं के नाम सामने आने पर अखिलेश यादव ने सरकार पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि अगर सपा नेता इस मामले में संलिप्त थे, तो सरकार क्या कर रही थी. उन्होंने कहा कि कहीं शराब से लोग मर रहे हैं, तो कहीं रेलवे की खुली क्रॉसिंग से बच्चों की जान जा रही है.