अलीगढ़: उत्‍तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले में एक विधायक ने पुलिस थाना के अंदर पुलिसकर्मियों पर अपनी पिटाई का आरोप लगाया है. भाजपा के एक विधायक ने थाने में बुधवार को पुलिसकर्मियों द्वारा कथित तौर पर उनकी पिटायी किये जाने का आरोप लगाया है. विधायक राजकुमार सहयोगी की थाने में पुलिस द्वारा कथित पिटाई की खबर फैलते ही सैकड़ों की संख्या में भाजपा कार्यकर्ता घटना के विरोध में थाने पर एकत्र हो गए. स्थिति तनावपूर्ण है और गोंडा थाने पर अतिरिक्त पुलिस बल भेजा गया है. वरिष्ठ पुलिस अधिकारी स्थिति को संभालने के लिए पहुंच गए हैं. Also Read - पिता करते थे मजदूरी, बेटी अचानक बन गई करोड़पति, कहा-मुझसे मत पूछो..जानिए कहानी

स्थिति को शांत कराने के लिए अलीगढ़ से भाजपा के लोकसभा सांसद सतीश गौतम सहित जिले के शीर्ष भाजपा नेता और वरिष्ठ पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारी बातचीत कर रहे हैं. Also Read - दिव्यांग शख्स को पीटने वाला पलिस कांस्टेबल निलंबित, वीडियो वायरल होने के बाद हुई कार्रवाई

विधायक राजकुमार सहयोगी की थाने में पुलिस द्वारा कथित पिटाई की खबर फैलते ही सैकडों की संख्या में भाजपा कार्यकर्ता घटना के विरोध में थाने पर एकत्र हो गए. Also Read - यूपी में 31,661 असिस्‍टेंट टीचर्स की वैकेंसी की रिक्रूटमेंट प्रोसेस एक हफ्ते में पूरी होगी

दरअसल, इगलास विधानसभा सीट से भाजपा विधायक सहयोगी सत्ताधारी दल से संबद्ध एक व्यक्ति के खिलाफ दायर मामले के सिलसिले में गोंडा थाने गए थे. सहयोगी का आरोप है कि जब वह इस मामले के सिलसिले में थाने गए तब एसएचओ सहित तीन पुलिस अधिकारियों ने उनके साथ मारपीट की.

संपत्ति विवाद को लेकर मामले ने तूल पकड़ा 
सहयोगी ने मीडियाकर्मियों को बताया कि दो अगस्त को पार्टी के कार्यकर्ता रोहित वार्ष्णेय की संपत्ति विवाद को लेकर सलीम नामक व्यक्ति ने पिटायी कर दी थी. सलीम के खिलाफ मारपीट का मामला दर्ज किया गया था. हालांकि इसी घटना को लेकर कुछ दिन बाद रोहित के खिलाफ भी मामला दर्ज कर लिया गया और जब रोहित इसका विरोध करने गया तो थाने पर तैनात पुलिसकर्मियों ने उनसे कथित तौर पर दुर्व्यवहार किया. सहयोगी ने कहा कि रोहित विश्व हिंदू परिषद के सक्रिय सदस्य हैं और उनके खिलाफ बेवजह मामला दर्ज किया गया है.

स्थिति तनावपूर्ण है और गोंडा थाने पर अतिरिक्त पुलिस बल भेजा गया
स्थिति तनावपूर्ण है और गोंडा थाने पर अतिरिक्त पुलिस बल भेजा गया है. वरिष्ठ पुलिस अधिकारी स्थिति को संभालने के लिए पहुंच गए हैं. किसी पुलिस अधिकारी ने कोई बयान नहीं जारी किया, लेकिन स्थानीय पुलिसकर्मियों ने संवाददाताओं को बताया कि विधायक ने पुलिस के साथ कथित तौर पर बदसलूकी की, जिसके बाद उनका थाना प्रभारी अनुज कुमार सैनी सहित पुलिस अधिकारियों के साथ झगड़ा हो गया. सहयोगी ने हालांकि इस बात से इनकार किया कि उन्होंने थाने में किसी से बदसलूकी की है.

सपा अध्यक्ष ने की जांच की मांग
सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इस मामले की जांच की मांग की है.अलीगढ़ की इगलास सीट से भाजपा के विधायक राजकुमार सहयोगी ने एक थाने में बुधवार को पुलिसकर्मियों द्वारा कथित तौर पर उनकी पिटायी किये जाने का आरोप लगाया है.