UP Assembly Election 2022: उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव (Vidhansabha Chunav) होने वाले हैं. राजनीतिक दल सक्रिय हैं. और नेता एक दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं और विवादित बयान भी खूब दे रहे हैं. बीजेपी (BJP) के यूपी चीफ स्वतंत्र देव सिंह (Swatantra Dev Singh) ने अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) की तुलना मुगल शासकों से की. स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि अखिलेश यादव के काम मुगल शासक गजनी और गौरी की तरह थे. इन सबने मिलकर देश को लूटा. अखिलेश अब सीजनल हिंदू हो गए हैं, जबकि सरकार में होने पर सिर्फ हज हाउस का फीता काटते थे.Also Read - UP Assembly Election 2022: सपा चाहती है ममता बनर्जी उनके लिए करें प्रचार, पार्टी के नेता TMC प्रमुख से आज करेंगे मुलाकात

भारतीय जनता पार्टी (BJP) के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि सपा मुखिया अखिलेश यादव को बाबा विश्वनाथ और रामलला के दरबार में जाकर माफी मांगनी चाहिये. स्वतंत्र देव सिंह ने कहा, “सपा मुखिया मौसमी बीमारी से ग्रसित हैं, जिसके प्रभाव के कारण वे सरकार के हर काम को खुद का काम बता रहे हैं. अब उन्हें काशी विश्वनाथ कॉरिडोर भी अपना बनवाया लग रहा है लेकिन वे भूल गए हैं कि उन्होंने केवल हज हाउस का ही फीता काटा था. मंदिर जाने वालों पर तो सपा सरकार ने गोलियां चलवाई थी. अखिलेश जी उत्तर प्रदेश की जनता यह भूली नहीं है, महादेव सब देख रहे हैं. ” Also Read - UP Election 2022: तीसरे व चौथे चरण के लिए उम्मीदवारों के नाम पर BJP में मंथन, चार घंटे चली मीटिंग

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने कहा, “अखिलेश की सरकार के कृत्य मुगल आक्रांता गजनी और गौरी से कम नहीं हैं. उन्होंने भी देश को लूटा था और 2017 से पहले यह भी ऐसा ही करते आये हैं. लोग भूले नहीं हैं कि 2017 के पहले दुर्गा पूजा और रामलीला के पंडाल लगाने के लिए कैसी मिन्नतें करनी पड़ती थीं. ” उन्होंने कहा, “अखिलेश जी समेत पूरा विपक्ष ‘सीजनल हिन्दू’ बनने की प्रतिस्पर्धा में लगा हुआ है. ऐसा केवल चुनावी सीजन होने के कारण ही है, अन्य दिनों में सभी टोपी लगाकर घूमते नजर आएंगे. केवल चुनाव में ही विपक्ष को भगवान याद आते हैं. आस्था के ढोंगियों के हथकंडों को देश और प्रदेश की जनता समझ गई है, इसलिये वह इनकी चालबाजी में नहीं आने वाली है. 2022 के चुनाव में वो इसका जवाब देने के लिए वह एक बार फिर योगी सरकार बनाने का मन बना चुकी है.” Also Read - UP Election 2022: आगरा में 6 उम्मीदवारों ने चुनाव के लिये नामांकन किया, एक ट्रांसजेंडर भी मैदान में