UP Assembly Election 2022: उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों में राष्ट्रीय किसान मंच (Rashtriya Kisan Manch) ने प्रदेश की सभी 403 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारने की घोषणा की है. राष्ट्रीय किसान मंच द्वारा जारी बयान के अनुसार मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष शेखर दीक्षित ने कहा कि प्रदेश की मौजूदा भारतीय जनता पार्टी सरकार किसानों के हितों के बजाए पूँजीवादियों को फायदा पहुँचाने का काम कर रही है.Also Read - सीएम योगी निभाएंगे हर वादा-बुजुर्ग महिलाओं के लिए बड़ा ऐलान-यूपी रोडवेज की बसों में अब करेंगी मुफ्त यात्रा

राष्ट्रीय किसान मंच में कहा गया है कि पिछले सात महीनों से अधिक समय से किसान दिल्ली की सीमा पर केन्द्र के नये कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं, लेकिन सरकार पूँजीपतियों को लाभ पहुँचाने के उद्देश्य से उनकी अनदेखी कर रही है. शेखर दीक्षित ने दावा किया कि भाजपा सरकार ने 2017 में किसानों से जितने वादे किए थे, वो सब झूठे साबित हुए. उन्होंने कहा, ‘‘गन्ना किसानों को 10 दिन में उनका पैसा नहीं मिला, खाद से लेकर बीज तक सबकी कीमत बढ़ गयी और ऊपज बेचने जाओ तो किसानों को उचित मूल्य नहीं मिल रहा है.’’ उन्होंने सवाल किया कि ऐसे में किसान कैसे जीएगा? Also Read - Uttar Pradesh Vidhan Sabha: आठ बार के विधायक सतीश महाना का विधानसभा अध्यक्ष बनना तय

शेखर दीक्षित ने विपक्षी दलों पर भी निशाना साधते हुए कहा कि किसानों ने सपा, बसपा और कांग्रेस की सरकारें भी देखी हैं, सभी के सुर सत्ता में आते ही बदल जाते हैं. उन्होंने कहा कि अगले चुनाव में मंच उत्तर प्रदेश की सभी 403 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगा. उन्होंने कहा कि संगठन ने आगामी तीन महीनों में एक करोड़ नए सदस्य बनाने का लक्ष्य रखा है. Also Read - सपा नेता ने Kashmir File को बताया 'झूठ का पुलिंदा', कहा- धर्म के नाम चुनाव जीत रही है BJP