लखनऊ: उत्तर प्रदेश आतंकवाद-रोधी दस्ते ने कानपुर के चकेरी से हिजबुल मुजाहिदीन के एक आतंकी को गिरफ्तार किया. वह गणेश चतुर्थी पर किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में था. यूपी पुलिस मुख्यालय में डीजीपी ओ.पी. सिंह ने पत्रकारों को यह जानकारी दी.

 

पुलिस महानिदेशक ने बताया कि बताया कि यूपी एटीएस ने कानपुर के चकेरी थाना क्षेत्र से गुरुवार की सुबह करीब 5 बजे हिजबुल मुजाहिदीन का आंतकी पकड़ा है. उसका नाम कमरुज्जमा उर्फ हुरैरा उर्फ कमरुद्दीन बताया जा रहा है. वह असम का रहने वाला है. उन्होंने बताया कि यूपी एटीएस को इसकी तलाश अप्रैल से ही थी. इस दौरान उसने अपनी एक तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर की थी, जिसमें उसने 47 प्रतिबंधित राइफल पकड़ी हुई थी. उसके बाद से ही वह एटीएस के निशाने पर था. सुरक्षा एजेंसियों को भी इसकी तलाश थी.

कानपुर का कोई बड़ा मंदिर था निशाने पर
इसकी गिरफ्तारी के दौरान उसके पास से मोबाइल बरामद हुआ है, जिसमें कानपुर के बड़े मंदिर का वीडियो और फोटोग्राफ बरामद हुए हैं. अंदाजा लगाया जा रहा है कि हुरैरा किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की तैयारी में था. डीजीपी ने बताया कि सुरक्षा एजेंसियों का अनुमान है कि हिजबुल मुजाहिद्दीन द्वारा इसे रेकी और तैयारी के लिए भेजा गया था. प्रारंभिक पूछताछ में उसने स्वीकार किया है कि वह हिजबुल का सक्रिय सदस्य भी है और यूपी में कानपुर के किसी बड़े मंदिर को गणेश चतुर्थी के मौके पर निशाना बनाने की तैयारी में था.

जम्मू-कश्मीर: मुठभेड़ में तीन पाकिस्तानी सहित 8 आतंकवादी ढेर, 12 सुरक्षाकर्मी घायल

खुफिया एजेंसियां आतंकी के के अन्य साथियों की तलाश में जुटी
उन्होंने बताया कि एटीएस की पूछताछ में यह भी पता चला है कि कमरुज्जमा कंप्यूटर और टाइपिंग का डिप्लोमा कर चुका है, और 2008 के दौरान विदेशों में भी रह चुका है. इसके साथ ही यह भी साफ हो गया है कि यह शादीशुदा है और इसका एक बच्चा भी है. हिजबुल मुजाहिद्दीन में यह किसी ओसामा के माध्यम से पहुंचा था. खुफिया एजेंसियां इसके अन्य साथियों की भी जोरशोर से तलाश कर रही है.