नोएडा: यूपी सरकार के रवैये से नाराज पतंजलि ने ग्रेटर नोएडा में स्थापित होने वाला अपना प्रस्तावित फूड पार्क किसी और राज्य में शिफ्ट करने का इरादा स्थगित कर दिया है. विवाद के बीच सीएम योगी आदित्यनाथ द्वारा बातचीत के बाद पतंजलि ने यूपी नहीं छोड़ने का ऐलान किया है. पतंजलि के प्रवक्ता एसके तिजरवाला ने कहा कि बाबा रामदेव व आचार्य बाल कृष्णा से सीएम योगी आदित्यनाथ से बात की. उन्होंने फ़ूड पार्क के लिए हर संभव मदद का भरोसा दिया. इसके बाद फ़ूड पार्क को यूपी में ही स्थापित करने का फैसला किया है. Also Read - Delhi-Noida-Ghaziabad Border पर प्रशासन की सख्ती, सीमाओं में प्रवेश के लिए इन नियमों का करना होगा पालन

आज ही फ़ूड पार्क को कहीं और स्थापित करने का किया था ऐलान

बता दें कि उत्तर प्रदेश सरकार के रवैये से नाराज होकर पतंजलि ने ग्रेटर नोएडा में स्थापित होने वाला अपना प्रस्तावित फूड पार्क किसी और राज्य में शिफ्ट करने का ऐलान किया था. पतंजलि के एमडी आचार्य बालकृष्ण ने कहा था कि यूपी सरकार का रवैया ठीक नहीं रहा रहा है. लगातार इसे लेकर हीला-हवाली की जा रही थी. अब इसे यहां से शिफ्ट किया जाएगा. बालकृष्ण ने खुद ट्वीट कर इस बारे में जानकारी देते हुए लिखा कि हमें ग्रेटर नोएडा में केंद्र सरकार की ओर से स्वीकृत फूड पार्क को निरस्त करने की सूचना मिली. इसके बाद सियासत में हल चल गई. सीएम योगी ने खुद ही रूचि लेकर बाबा रामदेव से बात की. और स्थिति संभाल ली.

ग्रेटर नोएडा से मेगा फूड पार्क का जाना यूपी सरकार के लिए झटका, बाबा रामदेव को मनाने में जुटे सीएम योगी

अखिलेश यादव ने किया था शिलांयास

बता दें कि मेगा फूड पार्क के लिए सपा सरकार में पतंजलि को जमीन मिली थी. तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने 30 नवंबर, 2016 को पतंजलि फूड और हर्बल पार्क का शिलांयास किया था. उस दौरान अखिलेश यादव ने कहा था कि समाजवादियों ने पतंजलि फूड और हर्बल पार्क का शिलान्यास कर बड़ा काम किया है. बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण ने एक अच्छी पहल की, जिसका सरकार ने साथ दिया. फूड पार्क का काम भी काफी तेजी से होगा और इससे ग्रामीण अर्थव्यवस्था को काफी मजबूती मिलेगी.