भदोही: उत्तर प्रदेश के भदोही जिले में 29 जुलाई को कथित तौर पर पुलिस की पिटाई से गोपीगंज थाने के लॉकअप में बंद ऑटो चालक रामजी मिश्र की मौत की घटना को अमानवीय बताते हुए हरदोई की विधायक रजनी तिवारी ने पीड़ित परिवार को एक लाख रुपये की आर्थिक मदद देने की इच्छा जताई है और इसके लिए शासन से अनुमति मांगी है. Also Read - Nepal Temples: ये हैं नेपाल के 5 प्रसिद्ध मंदिर, जहां हर साल लाखों की संख्या में दर्शन करने जाते हैं भारतीय

Also Read - इस एक्ट्रेस ने बाथरोब पहनकर मचा दी सनसनी, फोटो देखकर लोगों ने कहा- बला की खूबसूरत 

भदोही लॉकअप कांड: मुकदमा दर्ज हुआ तो हत्यारोपी एसआई का परिवार धरने पर बैठा Also Read - नताशा स्टेनकोविक ने BABY BUMP के साथ शेयर की खूबसूरत PIC, हार्दिक पांड्या को टैग कर लिखी दिल की बात

राज्य के दूसरे विधान सभा क्षेत्र से विधायक हैं रजनी

पीड़ित परिवार को राज्य सरकार की तरफ से अभी तक कोई आर्थिक सहायता नहीं मिल पाई है. चूंकि मसला दूसरे विधानसभा क्षेत्र से जुड़ा है, इसलिए हरदोई की विधायक को पीड़ित परिवार की आर्थिक मदद के लिए शासन से स्वीकृति की दरकार है. रजनी ने कहा कि अगर सरकार स्वीकृति नहीं देगी तो वह पीड़ित परिवार को अपने निजी फंड से 50 हजार रुपये देंगी. विधायक रजनी ने सरकार को जो पत्र लिखा है, वह सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.

गौरतलब है कि दो भाइयों में संपत्ति के विवाद का झगड़ा था. उसी विवाद को लेकर दोनों थाने आए थे, जहां संदिग्ध परिस्थितियों में राम जी मिश्र की मौत हो गई थी. पीड़ित परिवार का आरोप है कि थाने के लॉकअप में पुलिस की पिटाई से रामजी की मौत हो गई. जबकि पुलिस का कहना है कि रामजी की मौत हार्ट अटैक से हुई. काफी हंगामे के बाद इस मामले में आरोपी एसआई सुनील वर्मा और चौकी प्रभारी को लाइन हाजिर कर दिया गया है. साथ ही एसआई सुनील वर्मा के खिलाफ हत्या का मुकदमा भी पंजीकृत कराया गया है. जिला प्रशासन की तरफ से इस मामले की मजिस्ट्रेटी जांच चल रही है. एसपी ने विभागीय जांच का भी आदेश दिया है.

थाने में पिता की मौत: पुत्री की शिकायत पर एसओ लाईन हाजिर, हत्या का मुकदमा दर्ज

भदोही की यह घटना बेहद अमानवीय

हरदोई के शाहाबाद क्षेत्र की विधायक के मुताबिक भदोही की यह घटना बेहद अमानवीय है. यह मसला बेहद दुखद और विचारणीय है. राज्य सरकार दोषियों को निश्चित तौर पर सजा दिलाएगी. हमें पीड़ित परिवार के प्रति बेहद पीड़ा और संवेदना है. उन्होंने कहा पीड़ित परिवार को मैं एक लाख रुपये की आर्थिक सहायता देना चाहती हूं, चूंकि मामला राज्य के दूसरे विधानसभा क्षेत्र से जुड़ा है, इसलिए स्वीकृति के लिए मैंने शासन को पत्र लिखा है. अनुमति मिल गई तो मैं विधायक निधि से उस परिवार को एक लाख रुपए की आर्थिक सहायता दूंगी.

उनका कहना है कि अगर शासन से स्वीकृति नहीं मिली तो मैं अपने निजी फंड से पीड़ित परिवार को 50 हजार रुपए की सहायता दूंगी. इस मामले ने हरदोई की विधायक को बेहद प्रभावित कर दिया है. भदोही से रविंद्र नाथ त्रिपाठी और औराई से दीननाथ भास्कर भाजपा के विधायक हैं. इसके अलावा सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त भी सत्ताधारी दल से हैं. लेकिन किसी की तरफ से कोई आर्थिक मदद उस परिवार को नहीं मिली. अब तक जिला प्रशासन और शासन से कोई राहत नहीं मिली है. हालांकि ज्ञानपुर के विधायक विजय मिश्र की तरफ से पीड़ित परिवार को मदद दी गई है. रामजी मिश्र गोपीगंज कोतवाली के फूलबाग के निवासी थे.