लखनऊ: यूपी में योगी सरकार के मंत्रियों द्वारा दलितों के यहां खाना खाने को लेकर फिर विवाद गरमा गया है. नया मामला यूपी कैबिनेट मंत्री सुरेश राणा से जुड़ा हुआ है. बताया गया है कि कैबिनेट मंत्री ने दलित के घर शाही अंदाज में ‘होटल का खाना’ खाया है. और तो और, उन्‍होंने दलित के घर का पानी पीना भी उचित नहीं समझा और मिनरल वाटर मंगवाया. अब जब मामले ने तूल पकड़ा तो मंत्री जी सफाई देते फिर रहे हैं. उनका कहना है कि अधिक लोगों के साथ होने की वजह से कुछ खाना बाहर से मंगवाया गया, जबकि उन्‍होंने खुद दलितों के साथ बैठकर उनके घर में पका भोजन खाया. Also Read - UP: युवती ने 2 साल पहले जिस 'अशोक राजपूत' से की थी शादी, वह निकला अफजल खान

Also Read - Corona Spike in UP: यूपी में COVID19 के 15,353 नए केस आए इलाहाबाद HC में कल से ऑनलाइन सुनवाई

  Also Read - UP Zila Panchayat Chunav 2021: बीजेपी ने कुलदीप सिंह सेंगर की पत्‍नी संगीता सेंगर का टिकट किया कैंसिल

बता दें कि यूपी के कैबिनेट मंत्री सुरेश राणा सोमवार को अलीगढ़ जिले के लोहागढ़ में दलित ग्रामीण रजनीश कुमार सिंह के यहां पहुंचे थे. इस दौरान मंत्री जी के साथ उनकी पार्टी के कई नेता और कार्यकर्ता थे. बताया गया कि मंत्रीजी बीजेपी के दलितों से संपर्क साधने के अभियान के तहत वहां पहुंचे थे. इस दौरान वहां पर खाने-पीने के शाही इंतजाम किए गए. इस दौरान होटल से खाना मंगवाया गया, साथ ही पीने के लिए मिनरल वाटर भी लाए गए. इस दौरान बीजेपी नेता ने दलित के घर ‘भोजन’ की रस्‍म अदायगी करते हुए उसके साथ तस्‍वीरें खिंचवाईं. दलित रजनीश का कहना है कि उसे मंत्री के दौरे के बारे में जानकारी भी नहीं थी. ऐसा लगा, जैसे सब कुछ पहले से तय हो.

दलितों के घर नेताओं के खाना खाने पर उमा भारती ने दी ये नसीहत

दलित के यहां अचानक पहुंचे मंत्रीजी, नहीं थी कोई जानकारी

रजनीश ने बताया कि उससे घर में बैठने के लिए कहा गया. इसके बाद भोजन का सामान बाहर से लाया गया था. साथ में मिनरल वाटर की बोतलें भी थीं. यह सब बस औपचारिकता थी या कह सकते हैं कि दलित के घर मंत्री के भोजन का फोटो शूट जैसा था. बताया गय है कि कैबिनेट मंत्री सुरेश राणा के लिए मंगवाए गए भोजन में दाल मखनी, मटर पनीर, पुलाव, तंदूरी रोटी और भोजन के बाद मीठे के तौर पर गुलाब जामुन भी शामिल था. हालांकि राणा ने दलित के घर भोजन को लेकर उपजे विवाद के बाद सफाई दी है. उन्‍होंने कहा कि चूंकि उनके साथ करीब 100 लोग थे, इसलिए कुछ भोजन दुकान से मंगवाया गया. उन्‍होंने जोर देकर कहा कि उन्‍होंने दलित परिवार के घर उनके यहां बना भोजन ही खाया. मंत्री ने इससे भी इनका किया कि उनके दौरे की जानकारी दलित परिवार को नहीं थी. उन्‍होंने कहा, ‘उन्‍हें (दलित परिवार) को मेरे दौरे की पहले से जानकारी थी.