नई दिल्‍ली: उत्‍तर प्रदेश की योगी आदित्‍यनाथ सरकार  में तकनीकी शिक्षा मंत्री कमला रानी वरुण की आज कोरोना वायरस संक्रमण के चलते मौत हो गई. उनका लखनऊ के एक अस्‍पताल में इलाज चल रहा था. सीएम योगी आदित्‍नाथ ने उनके निधन पर शोक व्‍यक्‍त किया है. इस बीच, एक सरकारी बयान के मुताबिक मंत्री के निधन के शोक में राजधानी लखनऊ में राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका रहेगा. Also Read - राम मंदिर भूमिपूजन कार्यक्रम के लिए लखनऊ पहुंचे संघप्रमुख मोहन भागवत, कल जाएंगे अयोध्या

62 वर्षीय कमला रानी वरुण योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री के पद पर थींं. वह कानपुर की रहने वाली थीं और वर्तमान में घाटमपुर विधानसभा से विधायक थी. कानपुर नगर के घाटमपुर से विधायक कमल रानी इससे पूर्व 11वीं एवं 12वीं लोकसभा की सदस्य रही थीं. Also Read - Delhi High Court में स्कूल ट्यूशन फीस को माफ कराने की याचिका पर आज सुनवाई

तकनीकी शिक्षा मंत्री कमला रानी वरुण गत 18 जुलाई को आई रिपोर्ट में कोरोना वायरस संक्रमित पाई गई थीं. उन्हें श्यामा प्रसाद मुखर्जी अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जिसके बाद उन्हें संजय गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान में स्थानांतरित किया गया था. Also Read - कर्नाटक के पूर्व सीएम सिद्धरमैया कोरोना पॉजिटिव, ट्वीट से बताया अस्‍पताल में भर्ती हूं

3 मई, 1958 को जन्मी कमल रानी 21 अगस्त 2019 को प्रदेश मंत्रिमंडल में हुए फेरबदल के दौरान मंत्री बनी थीं. वह योगी मंत्रिमंडल की दूसरी महिला सदस्य थीं. इससे पहले रीता बहुगुणा जोशी कैबिनेट मंत्री थीं, लेकिन लोकसभा के लिए चुने जाने के बाद उन्होंने इस्तीफा दे दिया था.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का आज अयोध्या का दौरा रद्द हो गया है. मुख्यमंत्री भूमि पूजन कार्यक्रम की तैयारियों का जायजा लेने जा रहे थे.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी ​आदित्यनाथ ने प्राविधिक शिक्षा मंत्री कमल रानी वरुण का बीते कई दिनों से इलाज चल रहा था वो कोरोना पॉजिटिव थीं. आज सुबह उनका दुखद निधन हुआ है. मैं श्रीमती कमल रानी वरुण के दुखद निधन पर उनके प्रति कोटि-कोटि श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं.

राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने बताया कि प्रदेश सरकार की प्राविधिक शिक्षा मंत्री कमल रानी वरुण का सुबह लगभग 9:30 बजे संजय गांधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान (एसजीपीजीआई) में इलाज के दौरान निधन हो गया. कमल रानी वरूण कोरोना संक्रमित पायी गयी थीं और एसजीपीजीआई में उपचार करा रही थीं.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उनके निधन पर विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए शोक संतप्त परिजनों के प्रति अपनी गंभीर संवेदना व्यक्त की है. योगी ने कहा, ‘विगत कई दिनों से प्रदेश के प्रतिष्ठित चिकित्सा संस्थान एसजीपीजीआई में उनका उपचार चल रहा था. वह कोरोना वायरस संक्रमित थीं। आज सुबह उनका दु:खद निधन हुआ है।’

सीएम योगी ने कहा, कमल रानी वरूण लोकप्रिय जन नेता और वरिष्ठ समाजसेवी थीं. 11वीं और 12वीं लोकसभा की वह सदस्य थीं. 2017 में कानपुर नगर के घाटमपुर से विधायक चुनी गईं थीं. मुख्यमंत्री ने कहा कि कमल रानी वरूण ने मंत्रिमंडल में बड़ी कुशलतापूर्वक काम किया. उनका निधन समाज, सरकार और पार्टी के लिए अपूरणीय क्षति है.