लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भ्रष्टाचार के खिलाफ बड़ा कदम उठाते हुए गुरुवार सुबह गोंडा के डीएम जितेंद्र बहादुर सिंह और फतेहपुर के डीएम कुमार प्रशांत को निलंबित कर दिया है. दोनों जिलाधिकारियों पर भ्रष्टाचार और अवैध खनन करवाने के आरोप लगे हैं.

 

शासन से जुड़े सूत्रों के मुताबिक, गोंडा और फतेहपुर के जिलाधिकारी के खिलाफ सरकार को लगातार शिकायतें मिल रही थीं. इन पर अवैध खनन और गेहूं खरीद में गड़बड़ी सहित भ्रष्टाचार के कई आरोप लगे थे. इन्हीं शिकायतों पर संज्ञान लेते मुख्यमंत्री की ओर से यह कार्रवाई की गई. गोंडा के जिलाधिकारी पर अवैध खनन, खाद्यान्न अनियमितता के अलावा सरकारी जमीन गलत तरीके से अपने एक पहचान के व्यक्ति को देने का भी आरोप है. बता दें कि इस मामले में कोई भी अधिकारी फिलहाल अपना मुंह खोलने को तैयार नहीं है. हालांकि, शासन की तरफ से भी इसको लेकर कोई बयान नहीं आया है.

यूपी की राजधानी में गर्मी-उमस से लोगों का हाल बेहाल, कुछ जिलों में तेज-आंधी तूफान की संभावना