सीतापुर: जिले में कुत्तों के आतंक के मद्देनजर यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ शुक्रवार को सीतापुर दौरे पर जा रहे हैं. इस मामले में यूपी सरकार से हाईकोर्ट ने भी जवाब मांगा है. सीतापुर में सीएम आदमखोर कुत्तों के हमले में जख्मी और मृत बच्चों के परिवारिजनों से मुलाकात करेंगे. गौरतलब है कि सीतापुर में अब तक 12 से ज्यादा बच्चों को आदमखोर कुत्तों ने अपना निवाला बना लिया है 2 दर्जन से ज्यादा बच्चों को घायल कर दिया है. सीतापुर के आदमखोर कुत्तों का मुद्दा अमेरिकी मीडिया ने भी प्रमुखता से उठाया था. Also Read - UP: योगी आदित्यनाथ का बड़ा ऐलान-ग्रेटर नोएडा में बनेगी फिल्म सिटी, कंगना ने की थी तारीफ

जनहित याचिका पर कोर्ट ने सरकार से मांगा जवाब

सीतापुर जनपद में आदमखोर कुत्तों द्वारा कई बच्चों की जान लिए जाने और जख्मी किए जाने के संबंध में इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में एडवोकेट प्रिंस लेनिन ने जनहित याचिका दायर की जिस पर जस्टिस विक्रम नाथ और जस्टिस अब्दुल मोईन की बेंच ने सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने सीतापुर जनपद में कुत्तों के आतंक को नियंत्रित करने को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार से जवाब मांगा. और आदमखोर कुत्तों को नियंत्रित किए जाने के संबंध में इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने प्रदेश सरकार को 4 जुलाई तक का समय दिया. अब इस मामले पर अगली सुनवाई 4 जुलाई को होगी.

अमेरिकी मीडिया में छाया सीतापुर के आदमखोर कुत्तों का आतंक

जिला प्रशासन किसी जानवर कि हत्या या पशु उत्पीड़न में शामिल नहीं : डीएम सीतापुर

सीतापुर में कुत्तों के आतंक के चलते ग्रामीणों द्वारा कुत्तों को मारने पर पशु प्रेमी संस्थाओं ने सीतापुर प्रशासन कि कार्यशैली पर सवाल उठाए हैं इस बाबत सीतापुर कि डीएम शीतल वर्मा ने कहा है की जिला प्रशासन कुत्तों समेत किसी जानवर की हत्या या पशु उत्पीड़न को प्रेरित करने में शामिल नहीं है. उनका कहना है कि कुत्तों के हमले के कारण हुई 12 बच्चों की मौत को देखते हुए जिला प्रशासन ने जिले के सभी प्रभावित गांव में बच्चों व जानवरों की सुरक्षा हेतु निगरानी टीमों का गठन किया है. प्रशासन द्वारा नागरिकों से टीम बनाने की अपील भी की गई है. प्रशासन द्वारा अलग-अलग कई टीमों का गठन किया गया है, और प्रशासन व पुलिस की टीम लगातार काम्बिंग कर रही है.