लखनऊ: उत्तर प्रदेश में एक बार फिर सक्रिय हुए मानसून से लोगों को गर्मी से कुछ राहत मिली है. पिछले 24 घंटों के दौरान सूबे में अनेक स्थानों पर बारिश हुई. जलभरण क्षेत्रों में व्यापक वर्षा की वजह से नदियां उफान पर हैं और कई इलाकों में बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज लखीमपुर खीरी और गोण्डा जिलों के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करके राहत कार्य तेज करने के निर्देश दिए.

आफत की बारिश: कहीं 14 तो कहीं 7 सेंटीमीटर बारिश
आंचलिक मौसम केन्द्र की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 24 घंटों के दौरान जहां प्रदेश में अनेक जगहों पर वर्षा हुई. वहीं कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश भी हुई. इस अवधि में कासगंज में सबसे ज्यादा 20 सेंटीमीटर वर्षा दर्ज की गई. इसके अलावा झांसी में 14, जलेसर में 12, सहसवान और अतरौली में 11-11, बदायूं में नौ, आगरा, चिल्लाघाट तथा कायमगंज में आठ-आठ, सफीपुर, मुसाफिरखाना, मुजफ्फरनगर और उरई में सात-सात सेंटीमीटर बारिश हुई.

अगले 24 घंटों के दौरान भी राज्य के ज्यादातर स्थानों पर वर्षा होने का अनुमान है. कुछ इलाकों में भारी से बहुत भारी बारिश भी हो सकती है. यह सिलसिला अगले दो दिनों तक जारी रहने की सम्भावना है. इस बीच, केन्द्रीय जल आयोग की रिपोर्ट के मुताबिक घाघरा नदी कई स्थानों पर रौद्र रूप दिखा रही है. एल्गिनब्रिज (बाराबंकी), अयोध्या और तुर्तीपार (बलिया) में यह खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. वहीं, शारदा नदी का जलस्तर पलियाकलां (लखीमपुर खीरी) में लाल चिह्न के ऊपर बना हुआ है.

खतरे के निशान तक पहुंची नदियां
इसके अलावा गंगा नदी गढ़मुक्तेश्वर, नरौरा, फतेहगढ़, गुमटिया, अंकिनघाट और कानपुर में खतरे के निशान के नजदीक बह रही है. वहीं, क्वानो नदी का जलस्तर चंद्रदीपघाट (गोण्डा) में और शारदा नदी का जलस्तर शारदा नगर में लाल चिह्न के नजदीक बना हुआ है.

दुधवा टाइगर रिजर्व ने लांच किया टोल-फ्री: बाघ-तेंदुआ दिखे तो तुरन्त मदद के लिए करें फोन

इधर, लखीमपुर खीरी से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार मुख्यमंत्री योगी ने आज धौरहरा तहसील के बाढ़ प्रभावित गांवों का हवाई सर्वेक्षण किया. बाद में उन्होंने संवाददाताओं को बताया कि जिले के आठ इलाकों में शारदा तथा घाघरा नदियों की कटान का खतरा है. अधिकारियों से कहा गया है कि वे बाढ़ राहत तथा कटान रोकने के लिये युद्धस्तर पर काम करें.

हरियाणा का मिर्चपुर दलित हत्याकांड: हाईकोर्ट ने निचली अदालत से बरी 20 लोगों समेत 33 को दोषी करार दिया