मेरठ: मेरठ में मजदूर की बेटी ने बड़ी छलांग लगाई है. 19 साल की प्रिया सिंह ने शूटिंग जूनियर वर्ल्ड कप में हिस्सा लेगी. प्रिय ने वोर्ल कप के लिए क्वॉलीफाई कर लिया है. प्रिय और परिवार के लिए यह खबर ख़ुशी लेकर तो आई लेकिन वर्ल्ड कप में हिस्सा लेने जर्मनी पहुचेगी कैसे, ये सोच परिवार मायूस हो गया. आर्थिक तंगी से गुजर रहे पिता ने बेटी को जर्मनी भेजने में असमर्थता जताते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ से गुहार लगाई. सीएम योगी ने प्रिय और उसके परिवार के चेहरे पर ख़ुशी लाते हुए 4.50 लाख रुपए की सहायता दी है. रक्षा मंत्री अवॉर्ड और प्रतिष्ठित गवर्नर्स मेडल जीत चुकीं प्रिया को इसी साल जनवरी में जूनियर वर्ल्ड कप का प्रतिनिधित्व करने वाले भारतीय दल में चुना गया था. 2014 से 2017 के बीच प्रिया ने कुल 17 मेडल्स जीते हैं. Also Read - Film City in UP: यूपी सरकार का ऐलान, राज्य के इन क्षेत्रों में बनेगी फिल्म सिटी, मिलेगा रोजगार को बढ़ावा

बता दें कि 22 जून से जर्मनी में आयोजित होने वाले जूनियर वर्ल्ड कप की 50मीटर राइफल कैटेगरी में चुने जाने वाले 6 लोगों में से एक नाम प्रिया सिंह का भी है. प्रिया ने अबतक का अपना सफर मांगी हुई राइफल से तय कर लिया है, लेकिन अब आगे जाने के लिए उनके पास पैसे नहीं है. ऐसे में प्रिया ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मदद की गुहार लगाई थी. योगी आदित्यनाथ ने प्रिया की पुकार सुन ली है और मदद के लिए आगे आई है. सीएम योगी आदित्यनाथ ने जर्मनी जाने के लिए पैसे जारी कर दिए हैं. उन्होंने राज्य सरकार द्वारा 4.50 लाख रुपए की राशि को मंजूरी कर दी है. इसके साथ ही उन्होंने मेरठ जिला मजिस्ट्रेट से उनके आने-जाने के लिए वाहन की व्यवस्था करने के लिए भी कहा है.

प्रिया के पिता ब्रजपाल सिंह ने बताया कि प्रिया ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा था. उन्होंने कहा था कि मैं इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेना चाहती हैं, जिसके लिए मुझे 3 से 4 लाख रुपए की जरुरत हैं. मेरे पिता मजदूर हैं उन्होंने फंड की व्यवस्था करने की पूरी कोशिश की लेकिन हो नहीं सका. बता दें कि 2017 में प्रिया ने आखिरी बार किसी प्रतियोगिता में हिस्सा लिया था. प्रिया के पास खुद की राइफल तक नहीं है. 2017 तक वह एनसीसी कैडेट थी तो उसे राइफल मिली हुई थी. इसके बाद उनका एनसीसी से फेयरवेल हो गया और गन भी नहीं रही.