गाजियाबाद: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को यहां एक चुनावी जनसभा में कांग्रेस, समाजवादी पार्टी (सपा), बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और रालोद पर नकारात्मक राजनीतिक करने का आरोप लगाया. साथ ही उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस के लोग आतंकवादियों को बिरयानी खिलाते थे और मोदी जी की सेना आतंकवादियों को ‘गोली’ और ‘गोला’ देती है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस के लोग मसूद अजहर जैसे आतंकवादियों के साथ ‘जी’ लगाकर आतंकवाद को प्रोत्साहित करते हैं, यही अंतर है.

 

उन्होंने कहा कि भाजपा को रोकने के लिये गैर-भाजपाई दल नकारात्मक राजनीति कर रहे हैं. दुर्भाग्यपूर्ण है कि सीआरपीएफ जवानों की शहादत के परिणामस्वरूप की गयी भारतीय वायुसेना की कार्रवाई पर भी ये दल सवाल खड़े कर रहे हैं. देश और प्रदेश की जनता निश्चित तौर पर नकारात्मक राजनीति करने वाले दल एवं उनके प्रत्याशियों को सबक सिखाएगी. योगी ने कहा कि अखिलेश सरकार में कांवड़ यात्रा के दौरान डीजे पर प्रतिबंध लगाया गया था. योगी सरकार ने सत्ता में आने के बाद कांवड़ यात्रा को नया रूप देने का काम किया.

जयाप्रदा बोलीं, ‘विपक्ष का मोदी हटाओ अभियान होगा फेल, नरेंद्र मोदी दोबारा बनेंगे प्रधानमंत्री’

कांग्रेस सरकार में चरम पर था भ्रष्‍टाचार
इस दौरान खोड़ा से जिला पंचायत सदस्य कालू यादव ने समर्थकों के साथ भाजपा में शामिल होने का ऐलान किया. ‘भारत माता की जय’ के उद्घोष के बीच योगी ने कहा कि गाजियाबाद की धरती पर लोग एक बार फिर से नरेंद्र मोदी को देश के प्रधानमंत्री के तौर पर चुनने के लिए एकत्र हुए हैं. यहां की आवाज प्रदेश की सभी 80 सीटों तक पहुंचनी चाहिए. उन्होंने कहा कि यह देखना होगा कि 2014 से पहले देश में क्या हालात थे. हर तरफ अराजकता थी और विकास में बाधा डाली जा रही थी. संप्रग के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार में भ्रष्टाचार चरम पर था. दुनिया के दूसरे देशों में भारत का सम्मान समाप्त हो गया था.

सुषमा स्‍वराज से नाम के आगे ‘चौकीदार’ जोड़ने पर यूजर ने किया सवाल, जानिए विदेश मंत्री का जवाब

पांच साल में बदली देश की तस्‍वीर
उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी ने देश के प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ लेकर व्यवस्था देने का संकल्प लिया था. पांच साल के दौरान देश की जो तस्वीर बदली है वह सभी देश वासियों के सामने है. परिवारवाद और जातिवाद से हटकर पहली बार काम हुआ है. उन्होंने कहा कि देश के प्रधानमंत्री ने पहली बार देश में 100 स्मार्ट सिटी देने का काम किया, जिसमें 10 उत्तर प्रदेश से हैं. हालांकि प्रदेश के इन 10 शहरों में गाजियाबाद शामिल नहीं है.