लखनऊ: यूपीएटीएस ने बीते कल नोएडा में एक ऐसे गिरोह का भंडाफोड़ा जिन्होंने दिल्ली यूपी समेत कई जगहों पर करीब 1 हजार से अधिक लोगों का जबरन धर्मांतरण कर उन्होंने मुसलमान बनाया है. इस मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है जिसमें से एक खुद हिंदू से मुसलमान में परिवर्तित हुआ है और अब ISI से फंडिंग लेकर भारत में 1000 से अधिक लोगों का अवैध तरीके से धर्मांतरण कर चुका है. ऐसे में अब योगी सरकार राज्य में सख्ती अपनाने जा रही है. सीएम योगी आदित्यनाथ ने सख्त एक्शन लेते हुए जांच एजेंसियों को मामले की पूरी तह तक जाने का निर्देश दिया है.Also Read - मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोविड-19 रोधी टीके की दूसरी खुराक ली

सीएम योगी ने निर्देश देते हुए कहा कि जो लोग भी जबरन धर्मांतरण के मामले में संलिप्त हैं, उनके खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी. वहीं जबरन धर्म परिवर्तन कराने वालों के खिलाफ यूपी में NSA भी लगाने का निर्देश दिया गया है. साथ ही प्रशासन अब ऐसे लोगों की संपत्ति को जब्त भी करेगी. सीएम योगी इस मामले को बेहद गंभीरता से ले रहे हैं और सख्ती दिखा रहे हैं. बता दें कि राज्य में धर्म बदलवाने को लेकर यूपी में पहले ही सख्त कानून लागू है. Also Read - UP में पहले महिलाएं असुरक्षित महसूस करती थीं, अब देश में दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला राज्‍य बना: अमित शाह 

बता दें कि सोमवार के दिन यूपी एटीएस ने ऐसे रैकेट का भंडाफोड़ा है जो अवैध तरीके से लोगों का जबरन धर्म परिवर्तन कराकर उन्हें मुस्लिम धर्म अपनाने पर मजबूर करता है. इस मामले में 2 लोगों को गिरफ्तारी की गई है. इस मामले में उमर गौतम और जहांगीर काजमी को गिरफ्तार किया गया है जो कि दिल्ली के जामिया नगर के रहने वाले हैं. उमर गौतम खुद हिंदू से धर्म परिवर्तन कराकर मुसलमान बना है. इन्हें धर्म परिवर्तन कराने के लिए पाकिस्तानी खूफिया एजेंसी ISI से फंडिंग भी मिलती है. Also Read - UP: अमित शाह और CM योगी ने UPSIFS का शिलान्‍यास किया, विंध्याचल कॉरिडोर का भी करेंगे भूमिपूजन