गाजियाबाद के मुरादनगर में श्मशान घाट में दाह संस्कार करने गए लोगों की छत के ढह जाने से मौत हो गई थी. इस दौरान 25 लोगों की मौत हुई थी. इसी कड़ी में आरोपी ठेकेदार अजय त्यागी व मामले में दोषी अन्य अधिकारियों को गिरफ्तार कर मामला दर्ज कर लिया गया है. लेकिन इस बीच योगी आदित्यनाथ ने कड़ा रुख अपनाते हुए मुरादनगर नगरपालिका परिषद की अधिशासी अधिकारी को निलंबित कर दिया है. साथ ही हादसे में जान गंवाने वालों के परिजनों को 10-10 लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की है.Also Read - सपा के शासन में जाली टोपी वाले गुंडे व्यापारियों को धमकाते थे, UP Dy CM केशव मौर्य

यही नहीं योगी आदित्यनाथ ने अफसरों की लापरवाही का नतीजा करार देते हुए आरोपियों पर राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियन (NSA) के तहत कार्रवाई करने का आदेश जारी कर दिया है. सीएम योगी ने चेतावनी भरी लहजे में कहा कि इस तरह की घटनाओं के लिए जिम्मेदार अफसरों के लिए प्रशासन में कोई स्थान नहीं है. Also Read - PM मोदी 7 दिसंबर को यूपी के गोरखपुर में 9600 करोड़ के प्रोजेक्‍ट्स देश को समर्पित करेंगे, AIIMS का भी उद्घाटन करेंगे

Also Read - UP के छात्रों को अगले महीने से मिलना शुरू होंगे फ्री स्मार्टफोन और टैबलेट, योगी सरकार देने जा रही बड़ी सौगात

गौरतलब है कि इस प्रकरण में अबचक 4 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है, जिनमें ठेकेदार अजय त्यागी, नगरपालिका की कार्यपालन अधिकारी निहारिका सिंह, जेई चंद्रपाल, सुपरवाइजर आशीष व अन्य के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है. बता दें कि इन लोगों के खिलाफ धारा 304, 337, 409 और 427 में मामला दर्ज किया गया है.

गौरतलब है कि इस हादसे के बाद से ही ठेकेदार अजय त्यागी फरार चल रा था, जिस कारण उसपर गाजियाबाद पुलिस ने 25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया था. बता दें कि यह घटना तब हुई जब मुरादनगर क्षेत्र के उखलारसी गांव में एक व्यक्ति की मौत के बाद लोग दाह संस्कार के लिए श्मशान घाट पहुंचे थे. इस दौरान श्मशान की छत भरभरा कर गिर गई और 25 लोगों की मौत हो गई.