लखनऊ: सरकारी बंगले में तोड़फोड़ किए जाने के मामले में यूपी का राजस्व विभाग अगले कदम की तैयारी कर रहा है. जानकारी के अनुसार, राजस्व विभाग ने मामले की जांच कराने का फैसला किया है. यदि जांच में बंगले में तोड़फोड़ की बात साबित होती है फिर अखिलेश यादव को नोटिस जारी किया जाएगा. इसके बाद उनसे रिकवरी भी हो सकती है. राजस्व विभाग ने सिर्फ अखिलेश के आवंटित रहे बंगले में ही नहीं बल्कि अन्य मुख्यमंत्रियों द्वारा छोड़े गए बंगले की भी जांच कराने का फैसला लिया है.

सपा का आरोप, बदनाम करने के लिए BJP ने बंगले में कराई तोड़फोड़, हार से हताश हैं CM योगी

बता दें कि अखिलेश यादव को आवंटित रहे सरकारी बंगले को सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद कुछ दीन पहले ही खाली किया गया था. अखिलेश इसके लिए दो साल का समय मांग रहे थे, लेकिन उन्हें समय देने से इनकार कर दिया गया था. इसके बाद अखिलेश बंगला खाली कर गए. खाली बंगले के कई हिस्सों की खराब स्थिति सामने आई थी. बंगले में इलेक्ट्रिक स्विच तक नहीं छोड़े गए. सपा ने बीजेपी पर ही बंगले में तोड़फोड़ कराए जाने का आरोप लगाया था. बीजेपी ने भी इसे लेकर अखिलेश पर जमकर निशाना साधा था.

सरकारी बंगला उजाड़ने के सवाल पर अखिलेश बोले- बदनाम कर रही बीजेपी, नुकसान की लिस्ट सौंपे

जांच के बाद जारी होगा नोटिस
तमाम आरोप-प्रत्यारोप के बाद अब राजस्व विभाग ने खाली किए गए बंगलों की जांच करेगी. बंगलों की स्थिति की जांच की जाएगी. राजस्व विभाग के अनुसार- मुलायम सिंह यादव, राजनाथ सिंह, कल्याण सिंह, मायावती द्वारा खाली किए गए बंगलों की जांच कराई जाएगी. बंगलों में अगर कोई कमी या रिकॉर्ड में जो सामान वहां था, वो नहीं पाया जाता है तो फिर रिकवरी की जाएगी. इसके लिए नोटिस जारी किया जाएगा.