आगरा: शादी कराने वाली एक ऑनलाइन वेबसाइट पर बेटी के लिए रिश्ता देखा. लड़के ने अपनी प्रोफाइल में खुद को आईएएस अधिकारी बताया. लड़की के पिता ने अच्छा रिश्ता देख लड़के से संपर्क किया. शादी तय कर दी. यहां तक कि सगाई करने के बाद पांच लाख रुपए भी दे दिए, लेकिन शक होने पर भंडाफोड़ हुआ और पुलिस ने फर्जी तरीके से आईएएस बनकर शादी रचाने की कोशिश करने वाले शख्स को विवाह करने से पहले ही पकड़ लिया.

शक हुआ तब दी तहरीर
मामला थाना न्यू आगरा के लॉयर्स कालोनी का है. यहां के निवासी राजेंद्र सिंह ने पुलिस में आरोपी मंजीत राज एवं दो अन्य सहयोगियों के खिलाफ एक हफ्ते पहले तहरीर दी थी. पीड़ित की तहरीर पर पुलिस ने मामले की जांच की तो उक्त मामला फर्जी निकला. आरोपी मंजीत आईएएस नहीं था. लड़की के पिता द्वारा एक हफ्ते पूर्व दी गई तहरीर के आधार पर पुलिस ने मामले की जांच की तो आरोपी शख्स आईएएस नहीं था. पुलिस ने आरोपी से पीड़ित लड़की के पिता द्वारा दी गई पांच लाख रुपए की रकम भी वापस करवा दी. सोमवार को पुलिस ने उक्त आरोपी सहित चार लोगों को जेल भेजा है.

वापस किए पांच लाख रुपए
एक ऑनलाइन पोर्टल पर आरोपी के आईएएस होने के प्रोफाइल को देखकर लायर्स कालोनी निवासी राजेंद्र सिंह ने अपनी बेटी का विवाह उसके साथ तय कर दिया. थाना न्यू आगरा इंस्पेक्टर अनुज कुमार के अनुसार जांच में उक्त मामला फर्जी निकलने पर उक्त आरोपियों को पकड़ा गया है. आरोपियों ने सगाई के दौरान दी गई रकम वापस कर दी है. पुलिस ने फर्जी आईएएस मंजीत राज निवासी गाजीपुर, उसके पिता गोविंद राम, चाचा रमाशंकर निवासी गाजीपुर और सहयोगी विजेंद्र को गिरफ्तार कर लिया और उन्हें धोखाधड़ी की धाराओं में जेल भेज दिया है.