फिरोजाबाद: फिरोजाबाद के सिरसागंज थाना इलाके के एक गांव में चारा काटने को लेकर एक किसान की हत्या कर दी गई. आरोप एक बीजेपी नेता पर था. बीजेपी नेता पर कार्रवाई की मांग कर रहे धरने पर बैठे सपा विधायक हरिओम यादव को पुलिस ने जेल भेज दिया. पुलिस ने सपा विधायक के बेटे पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष विजय प्रताप को भी जेल भेज दिया. पुलिस का कहना है कि सरकारी काम में बाधा डालने पर जेल भेजा गया है. वह जातीय भी वैमनस्यता फैला रहे थे. जेल भेजे गए विधायक सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के समधी हैं. Also Read - धरना दे रहे BJP नेता हिरासत में, दिल्ली सरकार से मांग रहे थे विज्ञापनों का हिसाब

किसान को बेरहमी से पीट की गई हत्या
बताया जा रहा है कि सिरसागंज के सेनावली गांव के किसान श्यामवीर अपने दो दोस्तों के साथ खेत में चारा काटने गए थे. चारा काटने को लेकर इनका विवाद गजेंद्र और उसके दोस्तों के साथ हो गया. दोनों गुटों के लोग आपस में भिड़ गए. मारपीट के दौरान गजेंद्र ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर किसान श्यामवीर और उसके दोस्तों की जमकर पिटाई कर दी. श्यामवीर के साथी किसी तरह वहां से भागने में कामयाब रहे, लेकिन वह फंस गया. उसे लाठी डंडे से बुरी तरह से पीटा गया. इससे उसकी मौत हो गई. Also Read - केजरीवाल सरकार के खिलाफ BJP का धरना, दिल्ली सरकार से मांगा विज्ञापनों पर खर्च का हिसाब

कार्रवाई की मांग पर धरने पर बैठे सपा विधायक
घटना के बाद शिकायत के लिए परिजन थाने पहुंचे. यहां उन्होंने आरोपियों के खिलाफ तहरीर दी. इसके बाद भी रिपोर्ट दर्ज नहीं की गई. इस पर गांव के लोगों और परिजनों ने थाना घेर लिया. इस दौरान सिरसागंज से सपा विधायक हरिओम यादव भी यहां पहुंच गए. फिर भी पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज नहीं की. विधायक जिला अस्पताल पहुंचे यहां उन्होंने किसान का शव दिखाए जाने की मांग की. इनकार किए जाने पर विधायक समर्थकों के साथ अस्पताल में ही धरने पर बैठ गए. विधायक का कहना था कि किसान की हत्या के पीछे बीजेपी नेता जय वीर सिंह का हाथ है. इसलिए पुलिस मुकदमा दर्ज नहीं कर रही है. Also Read - हाईप्रोफाइल लव स्टोरी वाला कपल फिर चर्चा में, बीजेपी MLA की बेटी साक्षी के पति अजितेश को हुई जेल

पुलिस के कामकाज में बाधा डालने की वजह से सपा विधायक गिरफ्तार किए गए
इसके बाद पुलिस ने धरने पर बैठे सपा विधायक हरिओम यादव के खिलाफ ही कार्रवाई कर दी. पुलिस ने विधायक और उनके बेटे, जो पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष हैं, के खिलाफ सरकारी काम में बाधा डालने का मामला दर्ज कर अरेस्ट कर लिया. और जेल भेज दिया. इसके बाद सिरसागंज की सियासत में गर्माहट है. वहीं, जिले के एसएसपी राहल यदुवेंद्र ने कहा कि दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.