मुरादाबाद: जनपद के सिविल लाइन थाना पुलिस के रवैये से परेशान एक रेप पीड़िता के पिता ने बुधवार को एसएसपी कार्यालय के सामने आत्मदाह का प्रयास किया. जिसके चलते एसएसपी कार्यालय में कुछ देर के लिए अफरा-तफरी मच गई हालांकि समय रहते वहां मौजूद इंस्पेक्टर ने उसे ऐसा करने से रोक लिया. एसएसपी का कहना है कि मामले जांच हो रही है, दोषी को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा.

ये था मामला
न्याय की गुहार लगाने गए पीड़िता के पिता का कहना था कि उसने विवश होकर ये कदम उठाया. प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक लाचार पिता खुद पर मिट्टी का तेल उड़ेलकर माचिस से आग लगाने ही जा रहा था, तभी एलआईयू इंस्पेक्टर सचिन कुमार ने तत्परता दिखाते हुए उसके हाथ से माचिस छीन ली. पीड़ित परिवार आत्महत्या से रोके जाने पर एलआईयू इंस्पेक्टर से ही भिड़ गया और हाथापाई पर उतर आया.

लखनऊ: महिला ने विधानसभा के सामने की आत्मदाह की कोशिश, छेड़छाड़ से थी परेशान

मामला सिविल लाइन थाना क्षेत्र का है, जहां पीड़ित परिवार ने एक युवक पर 10 वर्षीय बच्ची को अगवा कर उसके साथ दुष्कर्म किए जाने का आरोप लगाया है. पीड़ित परिवार का कहना है कि उन्होंने पुलिस चौकी पर तहरीर दी, तो चौकी इंचार्ज ने पीड़ित पिता से कोरे कागज पर अंगूठा लगवाकर उन्हें वापस भेज दिया. उनका आरोप है कि पुलिस आरोपियों के साथ मिलकर समझौते का प्रयास के लिए दबाव बना रही है.

कर्ज से परेशान किसान ने गाजियाबाद जिला मुख्यालय पर किया आत्मदाह का प्रयास

एसएसपी बोलीं, मामले की हो रही जांच
पीड़ित पिता ने निराश होकर एसएसपी दफ्तर के सामने आत्मदाह का प्रयास किया. एएसपी अपर्णा गुप्ता का कहना है कि जानकारी मिली थी कि एक नाबालिग बच्ची का अपहरण कर लिया गया था. इस मामले में जांच की जा रही है. बच्ची का मेडिकल कराया जा चुका है. आरोपियों की तलाश जारी है, इस मामले में जांच के बाद सख्त कार्रवाई की जाएगी.