UP Flood: पहाड़ों पर लगातार हो रही बारिश के कारण यूपी के 15 जिले बाढ़ की चपेट में आ चुके हैं. यानी 257 गांव अब जलमग्न हो चुके हैं. गाजीपुर जिले में गंगा नदीं, हमीरपुर में यमुना नदीं, वेतवा नदी, पलियाकला खीरी में शारदा और गोंडा में क्वानों चंद्रीघाट नदी खतरे के निशान के उपर हैं. बता दें कि बाढ़ में फंसे लोगों की मदद के लिए सेना का सहारा लिया जा रहा है.Also Read - Jammu & Kashmir: आर्मी और पुलिस ने रजौरी जिले में घेराबंदी कर सर्च ऑपरेशन शुरू किया

बता दें कि योगी आदित्यनाथ आज इटावा और औरैया के बाढ़ग्रस्त इलाकों का हवाई दौरा करने वाले हैं. वहीं सीएम योगी ने बाढ़ पीड़ितों की हर संभव मदद देने का आश्वासन दिया है. बता दें कि बाढ़ क्षेत्रों से लोगों को बाहर निकालने का काम जारी है. सेना द्वारा रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जा रहा है. Also Read - Assam Boat Accident Update: ब्रह्मपुत्र नदी में नाव पलटने के बाद अभी भी 70 लोग लापता, 50 को बचाया गया

कितने गांव हुए जलमग्न Also Read - काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान: बाढ़ के पानी में डूबने से 24 दुर्लभ जानवरों की मौत, 17 हॉग हिरण भी मारे गए

खतरे के निशान के उपर बह रही नदियों के कारण यूपी के 15 जिले बाढ़ की चपेट में आ चुके हैं. वहीं कुल 257 गांव बाढ़ की चपेट में आ चके हैं. ऐसे में अगर जिले के हिसाब से बात करें तो इटावा के 67, जालौन के 67, हमीरपुर के 62, औरैया के 24, फर्रुखाबाद के 24, कानपुर दंहात के 24, आगरा के 20, गोरखपुर के 7, कौशांबी के 6, बलिया के 4, बांदा के 4, चंदौली के 3, बहराइच के 2 और कानपुर नगर के 2 गांव बाढ़ की चपेट में आ गए हैं.

सीएम योगी आदित्यनाथ द्वारा पीड़ितों की हर संभव मदद के लिए अधिकारियों को निर्देश दिया जा चुका है. वहीं लोगों को जरूरतों के हिसाब से फूट पैकेट बनाने के भी निर्देश दिए हैं. लोगों को ड्राइ राशन बांटा जाएगा. साथ ही NDRF और SDRF की 39 टीमों की तैनाती कर दी गई है. वहीं मेडिकल टीमों का भी गठन किया गया है.