लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार ने शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड और सुन्नी वक्फ बोर्ड द्वारा गलत तरीके से वक्फ संपत्तियों की खरीद-फरोख्त और अंतरण संबंधी मामलों की शनिवार को सीबीआई से जांच की सिफारिश कर दी.

आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक प्रदेश सरकार द्वारा कोतवाली इलाहाबाद एवं कोतवाली हजरतगंज पर पंजीकृत अभियोग तथा उत्तर प्रदेश शिया सेन्ट्रल वक्फ बोर्ड एवं उत्तर प्रदेश सुन्नी सेन्ट्रल वक्फ बोर्ड द्वारा अनियमित रूप से क्रय विक्रय तथा स्थानान्तरित की गयी वक्फ सम्पत्तियों की जांच/विवेचना सीबीआई से कराये जाने का निर्णय लिया गया है.

कार्मिक लोक शिकायत एवं पेंशन मंत्रालय को भी पत्र लिखा
उन्होंने बताया कि यह निर्णय इस सिलसिले में दर्ज कराए गए मुकदमा में किए गए अनुरोध के आधार पर लिया गया है. प्रदेश के गृह विभाग ने इस संबध में सीबीआई के साथ-साथ कार्मिक लोक शिकायत एवं पेंशन मंत्रालय को भी पत्र लिखा है.