लखनऊ: उत्तर पद्रेश सरकार ने मंगलवार को कहा कि राज्य के तकनीकी संस्थानों में 62 प्रतिशत सीटें खाली हैं, इसलिए सरकार की मंशा कोई नया इंजीनियरिंग कॉलेज खोलने की नहीं है. विधानसभा में मंगलवार को प्रश्नकाल के दौरान तकनीकी शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन ने कहा कि इंजीनियरिंग कॉलेजों में 62 प्रतीशत सीटें खाली हैं और सरकार कोई भी नया इंजीनियरिंग कॉलेज खोलने नहीं जा रही है. हम कॉलेजों में बेहतर शिक्षा देना चाहते हैं और इसके लिए अनेक नये पहल किये जा रहे हैं. Also Read - फिल्म सिटी के बाद अब उप्र में बनेगा पहला डाटा सेंटर पार्क, 600 करोड़ रुपये की परियोजना को मिली मंजूरी

सपा पार्टी के सदस्य संजय गर्ग ने सवाल करते हुए कहा कि आखिर इतनी बड़ी संख्या में कॉलेजों में सीटें खाली क्यों हैं? का जवाब देते हुए शिक्षा मंत्री ने कहा, ‘ऐसा लगता है कि पूर्ववर्ती सरकार ने नये इंजीनियरिंग कॉलेज खोलने से पहले उनके आधारभूत ढांचे और सुविधाओं पर ध्यान नहीं दिया और उन्हें खोलने की इजाजत दे दी.’ Also Read - केंद्र की तर्ज पर UP Govt का सरकारी कर्मचारियों को स्‍पेशल फेस्टिवल पैकेज, 10 हजार रुपए एडवांस मिलेंगे

उन्होंने कहा कि हम सुनिश्चित करेंगे कि शिक्षा की गुणवत्ता को बरकरार रखा जाय. सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेजों में 2007 के बाद किसी नये अध्यापक की नियुक्ति नहीं हुई है. हमने सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेजों में आधारभूत सुविधायें मजबूत करने के लिए 200 करोड़ रुपये की धनराशि स्वीकृत की है. Also Read - महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराध पर केंद्र सरकार सख्त, MHA ने जारी की नई एडवायजरी