महोबाउत्तर प्रदेश के महोबा जिले में जिला जज की अदालत ने तीन साल पहले पांच माह की दो जुड़वां बच्चियों की गला दबाकर हत्या करने का दोषी पाए जाने पर एक शख्स को आजीवन कारावास की सजा सुनाई और साथ ही 25 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया. Also Read - स्मृति ईरानी भी कोरोना के चपेट में, टेस्ट रिपोर्ट आई पॉजिटिव, ट्वीट कर दी जानकारी

Also Read - Neet Topper: नीट-2020 में 720 में से 720 अंक लाने वाली आकांक्षा सिंह कौन हैं?

नोएडा: पूर्व सहकर्मी के उत्पीड़न के आरोप में पत्रकार के खिलाफ मामला दर्ज Also Read - 'मेरी नहीं तो किसी की नहीं' कहकर तौसीफ ने निकिता के सीने में मारी गोली, कंगना बोली- एनकाउंटर करो!

आजीवन सलाखों के पीछे

महोबा के जिला शासकीय अधिवक्ता इंद्रपाल सिंह ने शुक्रवार को जानकारी देते हुए बताया कि जिला जज अल्ला रक्खे खां की अदालत ने 16 जुलाई 2016 को अपनी पांच माह की दो मासूम जुड़वां बच्चियों की गला दबाकर हत्या करने का दोष साबित हो जाने पर सुखदयाल कुशवाहा उर्फ बबलू को आजीवन कारावास की सजा सुनाई और साथ ही दोषी पर 25 हजार रुपये का जुमार्ना भी लगाया.

5 स्टार होटल में बंदूक लहराने के आरोपी बसपा के पूर्व सांसद के बेटे ने किया सरेंडर

शिकायत के बाद मुकर गई पत्नी

उन्होंने बताया कि ‘सजायाफ्ता सुखदयाल ने जुआ खेलने से मना करने पर अपनी पत्नी सहोद्रा के साथ मारपीट की थी, जिससे वह नाराज होकर पांच माह की दो जुड़वां बच्चियों को घर में छोड़कर मायके चली गई थी. गुस्से में आकर सुखदयाल ने दोनों बच्चियों की गला दबाकर हत्या कर दी थी. सबसे हैरतंगेज बात यह थी कि घटना की प्राथमिकी उसकी पत्नी ने ही थाने में दर्ज कराई थी लेकिन अदालत में बयानों से मुकर गई. अदालत ने परिस्थितिजन्य साक्ष्य और पत्रावली में उपलब्ध सबूतों के आधार पर दोषी को सजा सुनाई है.(इनपुट एजेंसी)