लखनऊ: कैराना लोकसभा उपचुनाव के लिए बीजेपी प्रत्याशी मृगांका सिंह के समर्थन में रैली करने पहुंचे यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने विपक्ष पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि वे विपक्षी दलों के बहकावे में न आएं. सीएम योगी ने कहा कि समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव अपने प्रत्याशी को उधार दे सकते हैं, लेकिन चुनाव प्रचार नहीं कर सकते हैं, क्योंकि उनके हाथ दंगों के खून से रंगे हैं. इसलिए लोग बीजेपी का साथ दें जो सबका साथ-सबका विकास चाहती है. हम जाति और मजहब से ऊपर उठकर सर्वांगीण विकास की बात करते हैं और उसी दिशा में काम करते हैं. Also Read - यूपी में कोरोना वायरस मामले 7000 के आंकड़े के पास, 945 प्रवासी श्रमिकों में लक्षण दिखे

किसानों के साथ नहीं होने देंगे अन्याय
सहारनपुर में रैली के दौरान सीएम योगी ने कहा कि पिछली सरकारों ने किसानों के लिए कुछ नहीं किया, लेकिन हम किसानों के साथ अन्याय नहीं होने देंगे. प्रदेश के युवा बेरोजगार हैं. रोजगार पाना युवाओं का अधिकार है और हम उस अधिकार की रक्षा करेंगे. हमारा मकसद अगले पांच सालों में किसानों की आय दोगुनी करनी है. जब बसपा की सरकार थी तब चीनी मिलें बेची गई थी, लेकिन हम चीनी मिलों को दोबारा शुरू करने जा रहे हैं. सरकार ने गरीबों के लिए बहुत काम किया है. हमनें गरीब परिवार की बेटियों के लिए कई योजनाएं चलाई है. सामूहिक विवाह की योजना चलाई गई है, जिसका लाभ सैकड़ों परिवारों को मिला है. Also Read - प्रवासियों के रोजगार मामले पर योगी आदित्यनाथ का यू-टर्न, अब राज्य सरकार से नहीं लेनी होगी अनुमति

बीजेपी राज में जान की भीख मांग रहे अपराधी
कैराना और पलायन के मुद्दे पर सीएम योगी ने कहा कि कैराना के लोगों को विपक्षी दल गुमराह कर रही है. जो लोग कैराना की बात कर रहे हैं, उन्हीं की सरकार पर मुजफ्फरनगर दंगे के कलंक हैं. पिछली सरकार के दौरान प्रदेश में गुंडाराज था, लेकिन आज अपराधी अपनी जान की भीख मांग रहा है. Also Read - Migrant labourers Politics: प्रवासी कामगारों के फैसले को लेकर प्रियंका ने पूछा सवाल- क्या योगी सरकार मजदूरों को बंधुआ बनाएगी