UP Kasganj Police Encounter: उत्तर प्रदेश के कासगंज में रविवार तड़के यूपी पुलिस और कासगंज कांड के मुख्य आरोपी मोती के बीच हुई मुठभेड़ में पुलिस ने बदमाश मोती को मार गिराया है. मोती कासगंज कांड का मुख्य आरोपी था. बता दें कि मुठभेड़ के दौरान दोनों तरफ से कई राउंड फायरिंग हुई. मुठभेड़ में बदमाश मोती को गोली लग गई, जिसके बाद उसे इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने बदमाश मोती को मृत घोषित कर दिया.Also Read - Uttar Pradesh News: यूपी पुलिस ने अवैध हथियार बनाने वाली फैक्टरियों का किया पर्दाफाश, दो आरोपी गिरफ्तार

एसपी ने बताया कि 1 लाख रुपये के इनामी बदमाश मोती को अरेस्ट करने के लिए पुलिस की 6 टीमें गठित की गई थीं. बीती रात मुखबिर से सूचना मिली कि मोती अपने साथियों के साथ करथला रोड, काली नदी के पास जंगल में छुपा है. पुलिस टीम ने तड़के ढाई से तीन बजे के बीच घेराबंदी की तो बदमाशों ने फायरिंग शुरू कर दी. Also Read - UP Hindi News: जबरन लड़की से की दोस्ती, फिर नौकरी के बहाने पर दोस्तों संग किया गैंगरेप

मोती के पास से दारोगा की लूटी पिस्तौल हुई बरामद Also Read - UP News: उत्तर प्रदेश में मशहूर कारोबारी संदीप गुप्ता की गोली मारकर हत्या, बदमाशों ने गोलियों से छलनी कर दी एसयूवी

कासगंज एसपी मनोज कुमार सोनकर ने बताया कि पुलिस ने बदमाश मोती के पास से दारोगा से लूटी हुई सरकारी पिस्टल, खोखा, जिंदा कारतूस और 315 बोर का एक तमंचा बरामद किया है. मोती की डेडबॉडी को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है.

शराब माफियाओं ने सिपाही देवेंद्र को पीट-पीटकर मार डाला था

बता दें कि शराब माफियाओं ने कासगंज में पुलिस टीम पर हमला करके सिपाही देवेंद्र को पीट-पीटकर मार दिया था. जिसके बाद पुलिस ने बदमाश मोती पर 1 लाख रुपये का इनाम रखा था.

जानकारी के मुताबिक कासगंज पुलिस के दरोगा अशोक पाल अपने हमराह सिपाही देवेंद्र के साथ शराब माफियाओं पर कार्रवाई करने निकले थे. उन्हें पता चला कि वहां दुर्दांत अपराधी मोती धीमर के शराब के अड्डे पर छापेमारी के दौरान पुलिस कर्मियों को बंधक बनाकर मारपीट की गई थी. मोती ने अपने भाइयों और साथियों के साथ मिलकर पुलिसकर्मियों को उनके कपड़े उतारकर पीटा था.

पुलिस कर्मियों पर बर्बरता की सारी हदें पार करते हुए उन्हें लाठी और लोहे के भाले के प्रहार से घायल कर दिया गया था.सूचना पर पहुंची पुलिस ने कॉंबिंग के दौरान लहूलुहान हालत में मिले दरोगा अशोक पाल और सिपाही देवेंद्र को अस्पताल भिजवाया था, जहां उपचार के दौरान गंभीर रूप से घायल सिपाही देवेंद्र ने दम तोड़ दिया था.