लखनऊ: बीजेपी से विधान परिषद चुनाव के लिए टिकट पाकर नामांकन करने वाले बुक्कल नवाब के खिलाफ फतवा जारी किया गया है. फतवा उनके द्वारा लखनऊ में एक हनुमान मंदिर में घंटा चढ़ाने और पूजा करने को लेकर दिया गया है. फतवा जारी करते समय मौलानाओं ने बुक्कल नवाब द्वारा पूजा किए जाने पर प्रतिक्रिया जाहिर की है. मौलानाओं ने कहा कि बुक्कल इस्लाम में रहने लायक नहीं हैं. वहीं, इस फतवे के बाद सपा के दिग्गज नेता आजम खान बुक्कल नवाब के पक्ष में उतर आए हैं. आजम ने कहा कि उलेमा धर्म के ठेकेदार नहीं हैं. इसके जवाब में मौलाना मुफ़्ती अहमद ने कहा कि अगर आजम खान भी दूसरे धर्म की पूजा करेंगे तो वह भी इस्लाम से खारिज हो जाएंगे.

देवबंदी उलेमाओं ने जारी किया फतवा
देवबंदी उलेमाओं ने इस्लाम से खारिज करते हुए कहा कि बुक्कल इस्लाम में रहने लायक नहीं हैं. उलेमाओं का कहना है कि जो भी अल्लाह के अलावा किसी और को पूजता है तो वह इस्लाम में रहने के लायक नहीं है.

यूपी: बीजेपी के मुस्लिम नेता बुक्कल नवाब ने हनुमान मंदिर में चढ़ाया तीस किलो का घंटा, बोले- सब ख्वाहिशें हो गईं पूरी

बुक्कल बोले- फतवे से नहीं पड़ता फर्क
देवबंदी उलेमाओं के इस फैसले के बाद बुक्क्ल नवाब ने जवाब दिया है. उन्होंने कहा कि उन्हें इस फतवे से कोई फर्क नहीं पड़ता. उन्होंने कहा, ‘मुस्लिम होने के साथ ही मैं हनुमान भक्त भी हूं, भगवान राम की तरह भगवान हनुमान भी हमारे पूर्वज हैं. भारत का संविधान भी हमें किसी भी धार्मिक कार्य करने की पूरी आजादी देता है’. इस दौरान उन्होंने राम मंदिर पर भी बयान दिया. उन्होंने कहा कि अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनना चाहिए.

फैसले पर आजम खान ने जताया ऐतराज
सपा के कद्दावर नेता आजम खान उलेमाओं के इस फैसले पर ऐतराज जताया है. उन्होंने कहा कि आखिर दूसरा व्यक्ति कैसे तय कर सकता है कि कोई मुसलमान रहेगा या नहीं. उलेमाओं के इस फैसले के बाद समाजवादी नेता आजम खान ने ऐतराज जताते हुए उलेमाओं को धर्म का ठेकेदार बताया. सपा नेता आजम खां के बयान के बाद मुफ्ती अहमद ने कहा कि अगर आजम खान भी दूसरे मजहब की पूजा करेंगे तो वो भी इस्लाम से खारिज हो जाएंगे.

बीजेपी की यूपी-बिहार विधानपरिषद उम्मीदवारों की लिस्ट जारी, सुशील मोदी, बुक्कल नवाब समेत कई बड़े नाम

बुक्कल ने 16 को चढ़ाया था घटना
बीजेपी के मुस्लिम नेता बुक्कल नवाब ने 16 अप्रैल को लखनऊ के एक प्रसिद्ध हनुमान मंदिर में घंटा चढ़ाया था. उन्होंने यहां तीस किलो का घंटा चढ़ाया था. मंदिर में पूजा की थी. उन्होंने तब माथे पर तिलक लगवाया. पीले कपड़े पहने. इस दौरान उन्होंने कहा कि था वह हनुमान भक्त हैं. अब उनकी सारी ख्वाहिशें पूरी हो गई हैं. भगवान हनुमान ने उनकी सभी ख्वाहिशें पूरी कर दी हैं.

भगवा कुर्ता पहन कर पहुंचे थे मंदिर
आमतौर पर सफेद कुर्ता पहनने वाले बुक्कल नवाब भगवा कुर्ता पहनकर मंदिर पहुंचे थे. वह हजरतगंज स्थित हनुमान मंदिर में उन्होंने 30 किलो का पीतल का घंटा चढ़ाया फिर महावीरी तिलक लगाकर, भगवान को शीश झुकाकर नमन किया था. इस दौरान उन्होंने कहा था कि वो पहले से ही हनुमान भक्त है. बुक्कल नवाब ने दावा किया कि उनके पूर्वजों ने ही दो मंदिरों का निर्माण करवाया था.