लखनऊ: पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सरकारी बंगला खाली कर दिया है. वह अब सुल्तानपुर रोड पर स्थित सुशांत गोल्फ सिटी में एक बंगले में रहेंगे. अखिलेश के साथ इसी बंगले में उनके पिता पूर्व सीएम मुलायम सिंह यादव भी रहेंगे. पिता पुत्र के लिए ये बँगला तैयार करा दिया गया. सुरक्षा कर्मियों के लिए बाहर कमरा बन रहा है. एसी आदि भी लग गया है. अखिलेश आज ही इसमें शिफ्ट हो सकते हैं. उन्होंने सरकारी बँगला छोड़ दिया है. वह पत्नी डिंपल और बच्चों के साथ बंगला छोड़ते समय बाहर दिखे.

खाली करने से पहले तुड़वाया जिम
वहीं, सरकारी बंगले को खाली करते समय उन्होंने इसमें कई चीज़ों को तुड़वा दिया है. बताया जा रहा है कि अखिलेश ने बंगले में अत्याधुनिक जिम बनवाया था. ये उनकी ही देखरेख में बना था. इसमें लगे उपकरणों के साथ ही साज-सज्जा का सामान भी उन्होंने हटवा दिया है. इसके साथ ही उन्होंने बंगले में गमलों में लगे पौधे भी हटवा दिए हैं. पौधे विदेश से मंगवाए गए थे. बता दें कि अखिलेश यादव ने ये बंगला अपने मनमुताबिक बनवाया था. इसे बिल्डर व समाजवादी पार्टी के कोषाध्यक्ष संजय सेठ ने डिजाइन किया था.

सुप्रीम कोर्ट ने दिया था आदेश
बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश के आधा दर्जन पूर्व मुख्यमंत्रियों को अपने सरकारी बंगले खाली करने के आदेश दिए थे. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुपालन में 6 पूर्व मुख्यमंत्रियों को 15 दिन में बंगले खाली करने के नोटिस जारी किए गए थे. सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया था कि मुलायम सिंह यादव समेत राज्य के सभी छह पूर्व मुख्यमंत्रियों को सरकारी बंगला खाली करना होगा. शीर्ष अदालत ने कहा था कि 1997 के जिस नियम के तहत उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्रियों को आजीवन सरकारी बंगला दिया गया है, उसका कोई कानूनी आधार नहीं है. उन्हें जिंदगी भर के लिए सुविधाएं नहीं दी जा सकती हैं. इस आदेश के बाद अखिलेश यादव के साथ मुलायम सिंह यादव ने भी दो साल का समय मांगा था, उनकी मांग को खारिज कर दिया गया. आज शनिवार को 15 दिन की मोहलत ख़त्म हो रही है. इसीलिए बंगला खाली करने में तेजी की गई.