बहराइच: चुनाव के दौरान 15 लाख रुपए देने के वादे को लेकर एक शख्स इतना गंभीर हुआ कि उसने बैंक में जमकर बवाल काटा. शख्स पेट्रोल लेकर बैंक पहुंचा और उसने चिल्लाकर 15 लाख रुपए अब तक खाते में नहीं आने की बात कही. कहा कि वह हर सप्ताह अकाउंट चेक करता है, लेकिन रुपयों का इंतज़ार ख़त्म नहीं हो रहा है. उसका परिवार भुखमरी की कगार पर है. इतना कहते ही उसने खुद के ऊपर पेट्रोल छिड़कर आग लगाने की कोशिश की. मौके पर पहुंचे पुलिस कर्मियों ने उसे ऐसा करने से रोक लिया. बैंक में इस घटना से भगदड़ मच गई. पुलिस ने सुसाइड की कोशिश करने वाले के खिलाफ कार्रवाई की है.

15 लाख नहीं आए कहकर अपने ऊपर डाल लिया पेट्रोल
मामला यूपी की राजधानी लखनऊ से सटे बहराइच के जरवल रोड थाना इलाके का है. यहां के धनराजपुर के रहने वाले मौजी लाल ने अजीबो गरीब हरकत की. मौजी लाल आज अचानक इलाहबाद बैंक पहुंच गया. वह हाथ में पेट्रोल की कट्टी लेकर पहुंचा. बैंक में घुसते ही उसने चिल्लाना शुरू कर दिया. उसने सहायक शाखा प्रबंधक को बैंक से बाहर निकलने को कहा. वजह पूछने पर उसने चिल्लाना शुरू कर दिया कि मोदी ने 15 लाख रुपए देने को कहा था, लेकिन बैंक में अब तक फूटी कौड़ी भी नहीं आई. वह हर हफ्ते बैंक अकाउंट चेक करता है. उसने चीखकर कहा कि उसका परिवार भुखमरी की कगार पर है. 35 वर्षीय शख्स ने इतना कहते हुए पेट्रोल की कट्टी अपने ऊपर उड़ेल ली. उसने खुद को आग लगाने की कोशिश की.

15 लाख रुपये तो दूर, 15 रुपये भी लोगों को नहीं मिले : हजारे

बैंक में मची भगदड़, मुकदमा दर्ज
इससे बैंक में भगदड़ मच गई. लोग बाहर की ओर भागे. बैंक के कर्मचारी भी बैंक के बाहर भागे. बैंक की सुरक्षा में मौजूद पुलिस कर्मियों ने मौजी लाल को सुसाइड करने से रोक लिया. उसे थाना ले जाया गया. उसके खिलाफ बैंक प्रबंधक की तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया गया है. पुलिस ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है.

राहुल गांधी: मोदी जी दावे तो बहुत बड़े-बड़े करते हैं, लेकिन काम कुछ भी नहीं करते

2014 में बीजेपी ने किया था वादा
2014 में हुए लोकसभा चुनाव के दौरान भारतीय जनता पार्टी ने विदेशों से काला धन देश में लाने का वादा किया था. बीजेपी ने कहा था कि काला धन वापस आने पर देश के हर नागरिक को 15 लाख रुपए मिलेंगे. विपक्षी दल इसे लेकर बीजेपी पर निशाना साधते रहे हैं. विपक्षी सवाल पूछते हैं कि अब तक 15 लाख रुपए आए कि नहीं. चुनाव में विपक्षी इस वादे को मुद्दा बनाते रहे हैं.