गोरखपुर: गोरखपुर में अवैध रूप से चल रहे प्राइवेट स्कूल के प्रबंधकों व अध्यापकों ने सरकार द्वारा की गई कार्रवाई के खिलाफ प्रदर्शन करना शुरू कर दिया है. अनोखा तरीका निकालते हुए प्रबंधक व अध्यापक ने ताप्ति नदी में प्रदर्शन कर रहे हैं. इसे उन्होंने जल समाधि का नाम दिया है. प्रबंधकों व अध्यापकों का कहना है कि सरकार के फैसले से उनके स्कूल बंद हो गए हैं. एक लाख का जुर्माना लगा दिया गया. वह बेरोजगार हो गए. प्रबंधकों व अध्यापकों ने खुद को बेरोजगार निजी स्कूल प्रबंधक बताया है. Also Read - दिल्ली HC ने दिया आदेश-ऑनलाइन क्लासेज के लिए छात्रों को दें मोबाइल-लैपटॉप, इंटरनेट पैक

कार्रवाई होने पर कर रहे प्रदर्शन
बता दें कि यूपी सरकार ने अवैध रूप चल रहे कई स्कूलों को बंद कर दिया है. ये स्कूल रजिस्टर्ड नहीं थे. अवैध रूप से चल रहे थे. इसी कारण सरकार ने एक लाख का जुर्माना लगाते हुए बंद करा दिया था. सरकार के इसी फैसले से नाराज प्रबंधकों व अध्यापकों ने आज राप्ती नदी में प्रदर्शन शुरू किया. प्रबंधकों व अध्यापकों वहां तिरंगा झंडा लेकर पहुंचे. प्रबंधक व अध्यापक पानी में प्रदर्शन कर रहे हैं.

सरकार दे दो साल का समय
प्रबंधकों व अध्यापकों का कहना है कि सरकार को उन्हें कुछ समय देना चाहिए था. हमें दो साल का समय दिया जाना चाहिए. जैसा बिहार में किया गया. तब तक वह स्कूल का रजिस्ट्रेशन करा लेंगे. प्रबंधकों व अध्यापकों का कहना है कि भारी जुर्माना और स्कूल बंद होने से उनके परिवार के सामने भरण-पोषण की समस्या आ गई है. वह तब तक प्रदर्शन करेंगे जब तक उनकी मांगें नहीं मानी जाती.