लखनऊ: उत्तर प्रदेश में रूठ चुका मानसून अब किसानों के लिये दर्द बनता जा रहा है. बारिश नहीं होने से धान तथा अन्य खरीफ फसलों की बुआई में हो रही देर के कारण काश्तकारों की पेशानी पर बल पड़ गये हैं. मौसम विभाग के मुताबिक प्रदेश में एक जून से 17 जुलाई तक औसतन 249 मिलीमीटर बारिश होनी चाहिए थी, लेकिन इस बीच केवल 121 मिलीमीटर वर्षा ही हुई है जो सामान्य बारिश का 50 प्रतिशत भी नहीं है. राज्य के कुछ जिलों में तो ठीकठाक वर्षा हुई है लेकिन ज्यादातर जिलों में सूखे की स्थिति है. Also Read - बुंदेलखंड: धान की खरीदारी न होने से किसानों की भूख हड़ताल जारी, बोले- हम मरने को मजबूर हैं

35 लाख हेक्टेयर में ही हो सकी बुआई
बहरहाल, वर्षा नहीं होने की वजह से खरीफ की फसलों पर सबसे बुरा असर पड़ रहा है. मुख्य फसल धान की रोपाई के लिये किसानों को बारिश का इंतजार है. सूबे में करीब 94 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में खरीफ की फसलों की बुआई होनी थी लेकिन वर्षा नहीं होने के कारण अभी तक केवल 35 लाख हेक्टेयर में ही बुआई हो सकी है. Also Read - VIDEO: गायों ने नहीं खाई सब्जी तो अफसरों पर गुस्साए सीएम योगी, कहा- कभी खिलाया नहीं होगा तो खाएंगी कैसे

नई तकनीक से मौसम विभाग बताएगा कब कहां कितनी बारिश होगी Also Read - बुंदेलियों ने की पृथक राज्य की मांग, पीएम मोदी को खून से चिट्ठी लिख मनाया काला दिवस

यूपी के अधिकतर हिस्सों में बारिश नहीं
मौसम विभाग के अनुसार पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य में कुछ स्थानों पर वर्षा हुई. बांदा में 12 सेंटीमीटर, रामसनेही घाट में आठ, सुलतानपुर, मथुरा तथा इगलास में सात-सात, सीतापुर और मुहम्मदी में छह-छह, झांसी तथा हमीरपुर में पांच-पांच, भटपुरवाघाट, वाराणसी, खीरी, बिसवां और नवाबगंज में चार-चार सेंटीमीटर वर्षा दर्ज की गयी. प्रदेश के ज्यादातर इलाकों में बारिश ना होने और चटख धूप निकलने से उमस भरी गर्मी पड़ रही है. राजधानी लखनऊ और आसपास के इलाकों में गुरुवार रात हल्की बारिश हुई. अगले 24 घंटों के दौरान राज्य के पूर्वी हिस्सों के अनेक इलाकों में और पश्चिमी भागों में ज्यादातर जगहों पर बारिश होने का अनुमान है.

अगले तीन चार दिन में जोर पकड़ सकता है मानसून
आंचलिक मौसम केन्द्र के निदेशक जे.पी. गुप्ता के मुताबिक अगले तीन-चार दिन के दौरान मानसून के फिर जोर पकड़ने का अनुमान है और इस अवधि में राज्य के विभिन्न स्थानों पर बारिश होगी. प्रदेश में इतनी कम बारिश होने के कारण के बारे में उन्होंने बताया कि बंगाल की खाड़ी में बनने वाला विक्षोभ दरअसल उत्तर प्रदेश से न गुजरकर मध्य भारत से गुजर जा रहा है. यही वजह है कि उत्तर प्रदेश में अभी तक अच्छी बारिश नहीं हो सकी है.