लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राणा (Munawwar Rana’s son) के बेटे तबरेज राणा (Tabrez Rana) को कल बुधवार को रायबरेली (Rae Bareli) की पुलिस ने राजधानी लखनऊ के लालकुआं इलाके से गिरफ्तार कर लिया. आज तबरेज राणा को कोर्ट में पेश किया जाएगा. विवादित बयानों से सुर्खियों में चल रहे शायर मुनव्वर राणा के बेटे तबरेज राणा के खिलाफ अपने चाचाओं को झूठे मामले में फंसाने के लिए खुद पर हमला करवाने का आरोप है. राणा के बेटे का अपने चाचाओं के साथ पैतृक संपत्ति को लेकर विवाद चल रहा था.Also Read - Bihar: JDU नेता डॉ. राजीव कुमार सिंह और उनकी पत्नी खुशबू सिंह पर जिम ट्रेनर की हत्‍या की कोशिश का केस दर्ज

एक वरिष्ठ अधिकारी ने रायबरेली में बताया कि तबरेज राणा को उसके खिलाफ रायबरेली में दर्ज मामले में लखनऊ में गिरफ्तार किया गया है. तबरेज तिलोई से आगामी विधानसभा चुनाव लड़ना चाहते थे, इसलिए उन्होंने सुरक्षा और मीडिया में प्रचार पाने के लिए खुद पर हमले की योजना बनाई थी. Also Read - Rajasthan: पिता ने 4 बेटियों को पहले जहर खिलाया, पानी के टैंक में डुबोकर मारा, फिर सुसाइड की कोशिश की

Also Read - ISI Terror Module: ओसामा के चाचा ने प्रयागराज में सरेंडर किया, देश में पूरे आतंकी नेटवर्क को को-ऑर्डिनेट कर रहा था

शायर के बेटे ने रायबरेली में पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी कि 28 जून को हिंडोला रातापुर इलाके के पास एक पेट्रोल पंप पर मोटरसाइकिल सवार दो लोगों ने उन पर हमला किया था. पुलिस के मुताबिक कि जब मामले को सुलझाने के लिए एक विशेष पुलिस बल का गठन किया गया और उसने घटनास्थल पर सीसीटीवी फुटेज मामले की जांच की थी तब तबरेज राणा के दावों में कई विसंगतियां पाई गई थी.

रायबरेली के पुलिस अधीक्षक श्लोक कुमार ने बताया था कि घटना के समय तबरेज एक वाहन में अकेला पाया गया था, हालांकि उसने दावा किया था कि उसके साथ एक अन्य व्यक्ति भी था. विस्तृत जांच में यह पता चला था कि तबरेज़ का अपने चाचाओं के साथ पैतृक संपत्ति को लेकर विवाद था, जिसे उन्होंने फरवरी 2021 में ही बेच दिया था.

पुलिस अधीक्षक ने कहा था कि तबरेज ने अपने दो साथियों – हलीम और सुल्तान अली – के साथ मिलकर खुद पर हमले की कहानी बनाई, ताकि गोली चलने के मामले में वह अपने चाचाओं के खिलाफ मामला दर्ज करवा सकें.

पिछले शुक्रवार को शायर मुनव्वर राणा के के खिलाफ राजधानी लखनऊ की हजरतगंज कोतवाली पुलिस ने महर्षि वाल्मीकि की तुलना तालिबानियों से करने के मामले में धार्मिक भावना भड़काने, अनुसूचित जाति, जनजाति निवारण अधिनियम समेत विभिन्न सुसंगत धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था.