नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश पुलिस का एक और अमानवीय चेहरा सामने आया है. सहारनपुर पुलिस पर आरोप है कि गो तस्करी के आरोप में पकड़े गए व्यक्ति को पुलिस ने मुंह से बोरे में भरा मीट निकालने के लिए बाध्य किया. मामले की गंभीरता को देखते हुए सहारनपुर के एसपी (सिटी) दिनेश त्रिपाठी ने पुलिस इंस्पेक्टर और कॉन्स्टेबल को उनके अमानवीय बर्ताव के लिए सस्पेंड कर दिया है. मामला पिछले हफ्ते का है लेकिन सोमवार को सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद सामने आया.

जानकारी के मुताबिक बोरी में मीट लेकर जा रहे भूरे को गो तस्करी के आरोप में गो रक्षकों ने रोक लिया. बोरी में प्लास्टिक के पैकेट में मीट देखने के बाद गोरक्षकों ने उसे बुरी तरह पीटा, जब वह गंभीर रूप से घायल हो गया तो कथित गोरक्षकों ने उसे निगोही पुलिस स्टेशन में पुलिस के हवाले कर दिया. वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि पुलिस आरोपी मुस्लिम युवक को बोरी से मीट का पैकेट मुंह लगाकर निकालने के लिए जबरदस्ती कर रही है. मौके पर मौजूद कुछ लोगों ने पुलिस के इस अमानवीय कार्य का वीडियो बना लिया.

बुरी तरह घायल मुस्लिम युवक को सीएचसी में भर्ती कराया गया है. भूरे के परिवार का कहना है कि वह मीट सप्लायर है और अपने क्लाइंट को मीट बेचने जा रहा था. सर्कल ऑफिसर बलदेव सिंह ने पुलिस की इस घिनौनी हरकत का बचाव करते हुए कहा कि हमने आरोपी को भीड़ से बचाया अगर पुलिस उसे नहीं बचाती तो वे उसे मार डालते.

पुलिस ने जांच के लिए उसे सिर्फ बोरे से मीट निकालने के लिए कहा था. सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद एसपी सिटी दिनेश त्रिपाठी ने पुलिस इंस्पेक्टर और कॉन्स्टेबल को सस्पेंड कर दिया है. उन्होंने बताया कि वीडियो के आधार पर शुरुआती जांच के बाद हमने दो पुलिसवालों को सस्पेंड कर दिया है. डिटेल रिपोर्ट के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी.