UP News: अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस (International Women’s Day) के अवसर पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने मिशन शक्ति अभियान (Mission Shakti Campaign) के दूसरे चरण का शुभारंभ किया. कार्यक्रम के दौरान योगी आदित्यनाथ ने 11 आत्मनिर्भर महिलाओं को सम्मानित किया. सीएम योगी ने इस दौरान महिला सशक्तिकरण पर बल दिया. Also Read - उत्तर प्रदेश के बांदा जिले में आर्थिक तंगी से परेशान किसान ने फांसी लगाकर की खुदकुशी

इस अवसर पर योगी आदित्यनाथ ने कहा कि “महिलाओं का प्रदेश की प्रगति में महत्वपूर्ण योगदान है. प्रदेश सरकार उनके कल्याण के लिए समर्पित है. हमने शारदीय नवरात्रि में कार्यक्रम प्रारंभ किया था. नारी शक्ति की प्रतीक मां दुर्गा के अनुष्ठान का कार्यक्रम हम वर्ष में दो बार करते हैं. दोनों अवसरों पर नारी शक्ति के बारे में अवगत होते हैं.” Also Read - UP Night Curfew Update: गोरखपुर समेत यूपी के इन जिलों में भी लगा नाइट कर्फ्यू, जानें टाइमिंग और दिशा निर्देश

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मिशन शक्ति का कार्यक्रम महिलाओं की सुरक्षा, सम्मान और स्वावलंबन से जुड़ा है. उन्होंने बताया कि जब नारियों को सुरक्षा, सम्मान एवं स्वाबलंबन से जोड़ा जाएगा तो महिलाएं सशक्त होंगी. उत्तर प्रदेश सरकार का लक्ष्य तभी पूरा होगा जब यहां की महिलाएं सशक्त होंगी. Also Read - West Bengal Election 2021: महुआ मोइत्रा ने क्यों कहा-योगीजी हमें तो 'Romeo' ही पसंद है, जानिए

International Women’s Day

सीएम योगी ने बताया कि उत्तर प्रदेश  में जो महिलाएं ओलंपिक में भाग लेती हैं, मेडल लेकर आती हैं उन्हें सम्मान दिया जाता है और जो गोल्ड मेडल लेकर आती हैं, उन्हें सम्मान के साथ-साथ 6 करोड़ की राशि भी दी जाती है. सरकार और समाज जब एक साथ चलते हैं तो हर समस्या का समाधान स्वयं हो जाता है.

उत्तर प्रदेश में महिलाओं को सुरक्षित वातावरण देने के लिए सेफ सिटी परियोजना पर काम किया जा रहा है. इस परियोजना के दूसरे चरण का आरंभ मुख्यमंत्री योगी की उपस्थति में इंडियन बैंक की चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर व मैनेजिंग डायरेक्टर पद्मजा चंदरू द्वारा किया गया. लखनऊ के बाद सेफ सिटी योजना में वाराणसी, गोरखपुर, गौतमबुद्धनगर, आगरा और प्रयागराज को शामिल किया जा चुका है. अब मेरठ, कानपुर नगर, अलीगढ़, बरेली, झांसी, मुरादाबाद और सहारनपुर को भी योजना में शामिल किया जाएगा. लखनऊ में इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित समारोह में महिलाओं की समस्याओं के निराकरण के लिए रिपोर्टिंग चौकी व साइबर क्राइम थाने में महिला साइबर क्राइम सेल की शुरूआत भी की गई है.