UP Panchayat Chunav 2021 Date: उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव (Panchayat Chunav) यानी प्रधानी के चुनाव (Pradhani Chunav) का बिगुल बज चुका है. इस चुनाव में अपनी किश्मत आजमाने की योजना बना रहे प्रत्याशियों के लिए एक अच्छी खबर है. राज्य निर्वाचन आयोग ने इस बार प्रत्याशियों से जमा कराई जाने वाली जमानत राशि और चुनावी खर्च की सीमा को नहीं बढ़ाने का फैसला किया है. इस बार भी चुनाव खर्च की सीमा पिछले पंचायत चुनाव के बराबर होगी. वैसे खर्च सीमा नहीं बढ़ने से प्रत्याशियों थोड़ी परेशानी भी हो सकती है. क्योंकि पिछले पांच साल में महंगाई काफी बढ़ गई है. ऐसे में एक निर्धारित रकम में चुनाव प्रचार को अंजाम देने में परेशानी होगी.Also Read - UP Election 2022 Phase 2 Voting Highlights: उत्तर प्रदेश में दूसरे चरण का मतदान संपन्न, शाम पांच बजे तक 60.44% वोटिंग

इतनी होगी जमानत राशि (Security Deposit or Jamant Rashi)

राज्य निर्वाचन आयोग ने पंचायत चुनाव के लिए खर्च की सीमा और जमानत राशि इस प्रकार तय की है.
ग्राम पंचायत सदस्य के लिए जमानत राशि – 500 रुपये
क्षेत्र पंचायत सदस्य के लिए जमानत राशि- 2000 रुपये
जिला पंचायत के लिए जमानत राशि- 4000 रुपये
प्रधान पद के लिए जमानत राशि – 2000 रुपये Also Read - Shamli, Muzaffarnagar and Meerut election 2022 voting: शामली, मुजफ्फरनगर और मेरठ में कितनी हुई वोटिंग, जानिए

प्रधान के प्रत्याशी के लिए खर्च की सीमा

राज्य निर्वाचन आयोग के मुताबिक अनुसूचित जाति, अनुसूचित जन जाति, पिछड़ा वर्ग और महिला प्रत्याशी के लिए जमानत की राशि आधी होगी. इसके अलावा आयोग ने चुनाव में खर्च होने वाली राशि की सीमा भी तय कर दी है. इसके तहत ग्राम पंचायत सदस्य 10 हजार रुपये, क्षेत्र पंचायत सदस्य 75 हजार रुपये, जिला पंचायत सदस्य डेढ़ लाख रुपये और प्रधान पद के प्रत्याशी 75 हजार रुपये तक खर्च कर सकेंगे. प्रत्याशियों द्वारा नामांकन दाखिल करने के बाद से ये खर्च जोड़े जाएंगे. Also Read - Gautam Budh Nagar, Ghaziabad, Hapur and Baghpat Voting Highlights: जानें कहां हुई कितनी वोटिंग

आरक्षण का मसला

राज्य निर्वाचन आयोग ने पंचायत चुनावों में आरक्षण को लेकर पूरी तरह से पारदर्शी व्यवस्था की बात कही है. इसके लिए राज्य सरकार ने पिछले पांच चुनावों का विवरण मांगा है. अमूमन जिस वर्ग के लिए सीट आरक्षित हुई थी वो सीट अगले चुनाव में दूसरे वर्ग को मिलनी चाहिए, लेकिन कई बार राजनीतिक दबाव में एक ही वर्ग को सीट आरक्षित कर दी जाती है. ऐसे में उस सीट को लेकर विवाद होना लाजिमी है. इन्हीं विवादों से बचने के लिए इस बार पूरी तरह से पारदर्शी व्यवस्था बनाने की बात कही जा रही है.

पंचायत चुनाव 2021 की तारीख (Panchayat Chunav 2021 Date)

उत्तर प्रदेश के पंचायती राज मंत्री भूपेंद्र सिंह ने पिछले दिनों कहा था कि राज्य में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की अधिसूचना 15 फरवरी तक जारी कर दी जाएगी. इसके बाद मार्च के अंत या फिर अप्रैल महीने के शुरू में राज्य में पंचायत चुनाव हो सकेंगे. हालांकि अभी तक चुनाव की तारीखों की कोई घोषणा नहीं हुई है.