अमरोहा: जनपद के बछराऊं थाना क्षेत्र के गांव इन्दरपुर में घटी एक सनसनीखेज वारदात में हिस्ट्रीशीटर बदमाश शिव अवतार यादव ने गांव में हिस्ट्रीशीटर का सत्यापन कराने गई टीम में शामिल सिपाही हर्ष चौधरी की गोली मारकर हत्या कर दी. पुलिस की जवाबी कार्रवाई में हिस्ट्रीशीटर शिव भी ढेर हो गया. यूपी पुलिस ने ट्वीट कर शहीद सिपाही हर्ष चौधरी (25 ) को श्रद्धांजलि व्यक्त की. Also Read - UP Lockdown News: यूपी में फिर से लगेगा लॉकडाउन या नहीं, अटकलों के बीच सरकार ने कही बड़ी बात, जानें लेटेस्ट अपडेट्स

Also Read - 'लव जिहाद' पर बोलीं मायावती- धर्म परिवर्तन अध्यादेश अनेक आशंकाओं से भरा है, सरकार पुनर्विचार करे

मारा गया हिस्ट्रीशीटर भी Also Read - Nandababa Temple Namaz Case: मंदिर परिसर में नमाज पढ़ने वाले दोनों आरोपियों की जमानत याचिकाएं कोर्ट ने की खारिज

मारे गए हिस्ट्रीशीटर पर 20 से अधिक आपराधिक मुकदमे दर्ज थे. एसपी अमरोहा विपिन ताडा ने घटना की जानकारी देते हुए बताया कि रविवार देर शाम दो दरोगा और 4 कांस्टेबल की एक टीम इन्दरपुर गांव में हिस्ट्रीशीटर का सत्यापन करने गई थी. टीम को वो अपने घर पर मौजूद नहीं मिला. उसके घर वालों ने बताया कि वो खेत पर काम करने गया है. जिसके बाद पुलिस टीम खेत पर पहुंची लेकिन पुलिस को देखते ही हिस्ट्रीशीटर शिव अवतार ने टीम पर तमंचे से फायर झोंक दिया. अचानक हुए इस हमले में 25 वर्षीय सिपाही हर्ष के सीने में गोली लगी जिससे उसकी मौत हो गई. उसके बाद बचाव में पुलिस ने जवाबी कार्रवाई की जिसमें उसे बदमाश को मार गिराने में सफलता मिली.

सीएम योगी ने जताया दुख

सिपाही हर्ष चौधरी की मौत पर सीएम योगी ने गहरा शोक व्यक्त करते हुए उसके परिवार के साथ संवेदना जताई और 50 लाख की आर्थिक सहायता व परिवार के एक सदस्य को नौकरी दिए जाने का ऐलान किया. जिसमे से 40 लाख रूपये की आर्थिक सहायता शहीद की पत्नी को और 10 लाख की आर्थिक सहायता शहीद के माता-पिता को दी जाएगी.

बता दें कि शहीद सिपाही हर्ष चौधरी मूल रूप से हाथरस जिले का रहने वाला था. 2016 में पुलिस में भर्ती हुए सिपाही की डेढ़ वर्ष पूर्व ही शादी हुई थी. उसकी पत्नी 5 माह की गर्भवती है. पति की शहादत की खबर सुन कर वो सुध-बुध खो बैठी है. पुलिस के आलाधिकारियों ने मौका ए वारदात का निरीक्षण किया है. पूरे मामले की तफ्तीश जारी है.

पुलिस भर्ती फर्जीवाड़ा: STF ने 9 को दबोचा, ताबीज में लगे उपकरण से कराते थे नकल, लेते थे 12 लाख