कानपुर: दिव्यांग महिला से उसकी गुमशुदा नाबालिग बेटी को ढूंढने के लिये अपने वाहन में डीजन भरवाने वाले सनिगंवा पुलिस चौकी के प्रभारी को मंगलवार को निलंबित कर दिया गया है. पुलिस उप महानिरीक्षक कानपुर प्रीतेंद्र सिंह ने बताया कि चौकी प्रभारी सब इंस्पेक्टर राजपाल सिंह को प्रथम दृष्टया दोषी पाते हुये उनके खिलाफ कार्रवाई की गयी. Also Read - UPPBPB Jail Warder Result 2018 Declared: यूपी पुलिस जेल वार्डर, फायरमैन का रिजल्ट हुआ जारी, ये रहा चेक करने का Direct Link

उन्होंने बताया कि छावनी क्षेत्र के सहायक पुलिस अधीक्षक निखिल पाठक को इस मामले की जांच की जिम्मेदारी सौंपते हुये उनसे कहा गया कि मामले की विस्तृत जांच रिपोर्ट उनके समक्ष एक निर्धारित समय सीमा में पूरा कर प्रस्तुत करें. रिपोर्ट आ जाने के बाद चौकी प्रभारी के खिलाफ अग्रिम कार्यवाही की जायेंगी. Also Read - UP: तीन साल की बच्‍ची का अपहरण कर पंजाब भागी बुआ, प्रेमी के साथ अरेस्‍ट

पुलिस उप महानिरीक्षक ने बताया कि सोमवार को एक महिला ने उनसे शिकायत में दावा किया कि एक माह पूर्व उसके एक रिश्तेदार द्वारा कथित रूप से उसकी 15 साल की बेटी का अपहरण कर लिया गया था. चौकी प्रभारी राजपाल सिंह ने कहा कि वह पुलिस की गाड़ी में डीजल भरवा दें तो उसकी बेटी को ढूंढेंगे. Also Read - UP: Mukhtar Ansari से जुड़े लोगों की प्रॉपर्टी को लखनऊ में ढहाना शुरू किया गया

महिला का आरोप है कि उसने अपने रिश्तेदारों से 10 से 15 हजार रूपये उधार मांग कर पुलिस को डीजल के लिये पैसे दिये. इस मामले को गंभीरता से लेते हुये पुलिस उप महानिरीक्षक ने मामले की जांच के निर्देश दिये और प्रथम दृष्टया आरोप सही पाये गए. उन्होंने बताया कि सोमवार को सब इंस्पेक्टर राजपाल यादव को पुलिस चौकी से हटा कर पुलिस लाइन से संबद्ध कर दिया गया और मंगलवार को जांच रिपोर्ट आने के बाद उन्हें निलंबित कर दिया गया.

पुलिस अधीक्षक नगर शिवा जी ने बताया कि दिव्यांग महिला की 15 साल की बेटी को उसके किसी नजदीकी रिश्तेदार ने एक माह पहले अपहरण कर लिया था. महिला ने इस संबंध में चकेरी पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई थी और सनिगंवा पुलिस चौकी के पुलिसकर्मियों के पास बेटी को ढूंढने के लिये गुहार लगा रही थी. महिला का आरोप है कि पुलिसकर्मियों को हजारों रूपये डीजल के लिये देने के बाद वह बेटी को ढूंढने के लिये तैयार हुये.

(इनपुट भाषा)